कुल पृष्ठ दर्शन : 597

You are currently viewing मिटना चाहते हैं वतन पर

मिटना चाहते हैं वतन पर

ताराचन्द वर्मा ‘डाबला’
अलवर(राजस्थान)
***************************************

कौन कहता है कि दिल में आरज़ू नहीं है,
हम भी मिटना चाहते हैं वतन के ऊपर।
कोरा दिखावा करना हमारी फितरत नहीं,
बहुत तजुर्बा ले लिया है ज़मीं से जुड़कर॥

परिचय- ताराचंद वर्मा का निवास अलवर (राजस्थान) में है। साहित्यिक क्षेत्र में ‘डाबला’ उपनाम से प्रसिद्ध श्री वर्मा पेशे से शिक्षक हैं। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में कहानी,कविताएं एवं आलेख प्रकाशित हो चुके हैं। आप सतत लेखन में सक्रिय हैं।