कुल पृष्ठ दर्शन : 271

You are currently viewing मैं क्यों न गाऊं ?

मैं क्यों न गाऊं ?

संदीप धीमान 
चमोली (उत्तराखंड)
**********************************

हर पल एक जीवन छूट रहा
संग जन्म मृत्यु का ख़ूब रहा,
बढ़ रहे क़दम शिखर को
मृत्यु आने पर मनुष रुठ रहा!

क्यों न हो शीर्ष का अगत्यु
जीवन शिखर ही तो है मृत्य,
दौड़ रहा था ऊंचाईयों को
शीर्ष उपलब्धि बधाईयों को!
मैं क्यों न गाऊं…?

शीर्ष पाकर भी मौन क्यों हो
संतोष को माने गौण क्यों हो,
था जन्म सत्य यही तुम्हारा
विषय आनन्द, मौन क्यों हो ?

गाओगे तब, कब तुम गीत
मंगल होगा कब मन मीत,
पल-पल मृत्यु घट रही है
शिखर छिपी है जीवन जीत।

शीर्ष है जीवन युद्धों का
द्वंद है मन भीतर बुद्धों का,
देखो विजय पताका फहर रही।
मैं क्यों न गाऊं…?
अंत है सभी जीवन मुद्दों का॥

Leave a Reply