Visitors Views 17

मैं पतझड़ का फूल

मनीषा मेवाड़ा ‘मनीषा मानस’
इन्दौर(मध्यप्रदेश) 
****************************************************************
नहीं किसी बाग की शोभा,
नहीं कोई माली मेरा।
निर्जन वन में पड़ा अकेला,
‘मैं पतझड़ का फूल’
विरह अग्नि पल-पल जलता,
फिर भी रोज खिला हूँ करता।
धू-धूकर जलती है धरती,
हवा भी वही रूप धर लेती।
सुनकर सूखे पत्तों के सुर-साज,
मिटाता हूँ इस मन के त्रास।
सूनी डाली भी करती करूण पुकार,
कब आयेगा सावन अबकी बार।
पड़े निर्झर-नदियाँ भी सूने,
दर-दर भी ये जीव भटकते।
देखकर कष्टमय जीवन सबका,
चट्टानों के भी अश्रु बहते।
खुद मिटकर भी न मिटा सकता,
इनकी राहों के ये शूल।
‘मैं पतझड़ का फूल’…
‘मैं पतझड़ का फूल’…॥

परिचय-श्रीमति मनीषा मेवाड़ा का साहित्यिक मनीषा मानस है। जन्म तारीख ३ अगस्त १९८१ और जन्म स्थान-झाबुआ है। वर्तमान में इन्दौर(मध्यप्रदेश) में और स्थाई निवास आष्टा जिला-सीहोर है। हिन्दी का भाषा ज्ञान रखने वाली मध्यप्रदेश वासी मनीषा मानस ने बी.ए.(हिन्दी साहित्य),एम.ए. (अर्थशास्त्र-लघु शोध प्रबन्ध के साथ) और पीजीडीसीए की शिक्षा हासिल की है। इनका कार्यक्षेत्र-शिक्षक का है। सामाजिक गतिविधि में जरुरतमंद बच्चों को सामाजिक संगठन से हरसम्भव मदद दिलाने का सफल प्रयास करती हैं। लेखन विधा-लेख एवं काव्य है। आपकी विशेष उपलब्धि-महाविद्यालय जिला स्तर प्रतियोगिता में रचनात्मक लेखन में चयन तथा कार्यक्षेत्र में जिला स्त्रोत समूह के रुप में कार्य का अवसर है। लेखनी का उद्देश्य-हिन्दी लेखन में रुचि है। पसंदीदा हिन्दी लेखक-मुंशी प्रेमचन्द और प्रेरणापुँज-गुरुजन हैं। देश और हिन्दी भाषा पर आपका कहना है-“हिन्दी भाषा की समृद्धि ही देश विकास के चिन्तन को प्रमुख आधार प्रदान करती है।”