कुल पृष्ठ दर्शन : 188

You are currently viewing ये प्रीत की डोर

ये प्रीत की डोर

डॉ. श्राबनी चक्रवर्ती
बिलासपुर (छतीसगढ़)
*************************************************

तू एक छोर, मैं एक छोर,
ये प्रीत की डोर
न पड़े कमजोर,
बंधे पुरजोर।

तूफान मचाए कितना भी शोर,
आंधी कर दे हमें झकझोर
खिंचा चला आये मेरी ओर,
झूमे जब मन का मोर।

कब आएगा वो सुहाना भोर,
मिलन होगा जब चाँद से चकोर।
थक गई अंखियाँ पंथ निहार,
रुकना नहीं है रख मन में जोर॥

Leave a Reply