कुल पृष्ठ दर्शन : 180

You are currently viewing विरासत को प्रसारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है हिन्दी

विरासत को प्रसारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है हिन्दी

इंदौर (मप्र)।

जिस तरह संस्कृति और सभ्यता भाषा से पोषित होती हैं, उसी तरह एक भाषा के रूप में हिंदी भी हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित और प्रसारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
इन पंक्तियों द्वारा सर्वप्रथम ‘हिंदी दिवस’ के महत्व को समझाया गया। अतिथि के रूप में विद्यालय के प्राचार्य रेव.फादर डेंटीस थॉमस व प्राइमरी सेक्शन प्रभारी श्रीमती लिट्टी जीजो रहीं। प्राचार्य का स्वागत हिंदी शिक्षिका श्रीमती अनुपलता जोशी ने रोली का टीका लगाकर व श्रीफल देकर किया। मंच संचालन की व्यवस्था कक्षा पांचवी के स्पर्श सोलंकी व आराध्या जायसवाल ने संभाली। उनके मंच संचालन ने समां बांध दिया। इस अवसर पर शाला में विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया, जिसमें कक्षा तीसरी के लिए कविता वाचन,

चौथी के लिए नारे व पोस्टर बनाओ व पांचवी के लिए भाषण प्रतियोगिता रखी गई। इसमें अनेक विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। छात्रों द्वारा कई रंगारंग प्रस्तुतियाँ प्रस्तुत की गई, जिसमें सुमधुर समूह गीत, हिंदी भाषा को परिभाषित करता सामूहिक नृत्य और मात्राओं के अंतर को नाटक के माध्यम से समझाया गया।विद्यार्थियों द्वारा भारत के महान हिंदी कवियों की रचनाओं को भी प्रस्तुत किया गया। इस मौके पर हिंदी शिक्षिका श्रीमती श्रुति डाले, प्रियंका सोलंकी व अनुपलता जोशी द्वारा भी सुंदर कविता का वाचन किया गया। आभार प्रियंका सोलंकी ने माना।