कुल पृष्ठ दर्शन : 300

You are currently viewing श्रमिकों के मसीहा की जयंती पर हुई सरस काव्य गोष्ठी

श्रमिकों के मसीहा की जयंती पर हुई सरस काव्य गोष्ठी

पटना (बिहार)।

आज जिज्ञासा संसार और गोस्वामी जागरण मंच के तत्वावधान में पटना के यूथ हास्टल के सभागार में भारत के चौथे निर्दलीय भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. वी.वी. गिरि की जयंती मनाई गई। समारोह के प्रथम सत्र का उद्घाटन डॉ. जंग बहादुर पाण्डेय ने किया। अध्यक्षता डॉ. सुधा सिन्हा ने की।
उद्घाटन वक्तव्य में डॉ. पाण्डेय ने कहा कि, आज अंतरराष्ट्रीय कवि गोष्ठी डॉ. गिरि के सम्मान में की गई है। उन्होंने कहा कि कविता मनुष्यता की उच्च भूमि है। कविता कल्पना और विचार की समानुपातिक सरस भावाभिव्यक्ति है। दर्शन शास्त्र की पूर्व विभागाध्यक्ष डॉ. सिन्हा ने कहा कि कविता मनुष्यता की पहचान है। मंगलाचरण डॉ. मीना परिहार ने किया।
जनार्दन मिश्रा, डॉ. राम सिंहासन सिंह, डॉ. लोकनाथ तिवारी, डॉ. मधु प्रभा सिंह, डॉ. मधु मिश्रा, डॉ. अलका वर्मा, डॉ. मीना परिहार, कवि सिद्धेश्वर, ​​डॉ. पंकज प्रियम आदि कवि-कवयित्रियों ने अपनी कविताओं से इस सत्र को ऊँचाई दी। स्वागत कार्यक्रम के संकल्पक डॉ. पी.एस. दयाल यति ने किया। सुंदर संचालन डॉ. श्वेता गजल ने किया। राष्ट्र गान से पूर्णाहुति हुई। धन्यवाद ज्ञापन तुलसीदास गोस्वामी ने किया।