कुल पृष्ठ दर्शन : 959

You are currently viewing सब सिफारिश से तय

सब सिफारिश से तय

हेमराज ठाकुर
मंडी (हिमाचल प्रदेश)
*****************************************

संघर्ष की राहों पर चलतेे-चलते, रास्ता जब तय होता है,
सफलता के उत्कर्ष का किला, मुकम्मल विजय होता है
असीम आनन्द तो कभी, कभी हर्षोल्लास उदय होता है
दर्द होता है जब किसी का, सब सिफारिश से तय होता है।

इस साठ-गाँठ के बाजार में, कदम-कदम पर भय होता है,
कभी-कभी करीबियों की ही, फितरत पर संशय होता है
खरीद-फरोख्त की दुनिया में तो, जमीर भी विक्रय होता है,
दर्द होता है जब किसी का, सब सिफारिश से तय होता है।

आदमी की आदमीयत का, हैवानियत में विलय होता है,
सुना था कि उस ही क्षण में, तब पृथ्वी पर प्रलय होता है
बेटी नहीं बिहाते हैं कुटुम्बज, बाकी अरी आश्रय होता है,
दर्द होता है जब किसी का, सब सिफारिश से तय होता है।

आदर्शों का शहर-ए-आम, त्याज्यता से परिणय होता है,
सदाचारियों का भ्रष्टाचारियों से, बारम्बार अनुनय होता है।
ऐसी दशा में तो भीतर ही भीतर, वेदना का उदय होता है,
दर्द होता है जब किसी का, सब सिफारिश से तय होता है॥

Leave a Reply