Visitors Views 54

हिन्द पर नाज करें हम

डॉ. कुमारी कुन्दन
पटना(बिहार)
******************************

अपना सम्मान तिरंगा….

कितना पावन पर्व है आया,
गगन-धरा भी जश्न मनाएं
बहे समरसता,प्रेम की गंगा,
चलो अमृत महोत्सव मनाएं।

शर्म करें, अच्छे कर्म करें हम,
अमन-चैन रहे, अमल करें हम
हिंसा की ना बात करे मन,
फला-फूला रहे अपना चमन।

किस-किस की बात करें हम,
सब बलिदानी एक से एक
बड़े जतन से ये दिन आया,
इस पथ चढ़ गए शीश अनेक।

कौन भूलेगा जिस माँ के,
लाल ने दे दी कुर्बानियाँ
ओढ़ कफन,दफन जो हो गए,
सीने पर झेली,कितनी गोलियाँ।

उनको भी हम कैसे भूलें,
अहिंसा के थे जो पुजारी
सत्याग्रह छेड़ा,नमक बनाया,
जंग पड़ी गोरों पर भारी।

कर्मभूमि ये वीरों की जहां बहती,
देशभक्ति की अविरल धारा
अपने हिन्द पर नाज करें हम,
जहां पलता सनातन धर्म हमारा॥