कुल पृष्ठ दर्शन : 129

You are currently viewing है विरासत

है विरासत

अजय जैन ‘विकल्प’
इंदौर(मध्यप्रदेश)
******************************************

बड़े-बुजुर्ग
इनसे मजबूती
घर की नींव।

है दहलीज
करो सदा सम्मान
सीखो सलीका।

वो अनुभवी
लेना सदा सलाह
देखी जिंदगी।

रिश्ता अमूल्य
हमसे प्यार बड़ा
समझो मूल्य।

है विरासत
सुख-दु:ख में साथ
बड़ी ताकत।

इनसे खुशी
संग जो हो आशीष
बढ़ती खुशी।

आती समृद्धि
निरंतर प्रगति
समझो इसे।

करना फिक्र
अलग न हो कभी
हम से जिक्र।

हैं ये नींव
जिम्मेदारी सबकी
हम हैं जीव।

संग रहना
इनसे ही संस्कृति
मानो कहना।

नहीं ये बोझ
ये साक्षात् ईश्वर
बदलो सोंच॥