कुल पृष्ठ दर्शन : 204

You are currently viewing तुम्हें फूल कहूँ या फूल हैं तुम्हारे जैसे

तुम्हें फूल कहूँ या फूल हैं तुम्हारे जैसे

डाॅ. पूनम अरोरा
ऊधम सिंह नगर(उत्तराखण्ड)
*************************************

काली-काली घटाएँ-
तुम्हारी जुल्फें हों जैसे,
खिले हुए गुल-
तुम्हारा चेहरा हो जैसे।

डगर पर उड़ते पत्ते-
तुम्हारी चाल हो जैसे,
पंखुडियों का हिलना-
लब बोलते हों जैसे।

लहराती लताएँ-
तुम्हारी अदाएँ हो जैसे,
दहलीज पर बिखरे फूल-
तुम्हारी हँसी हो जैसे।

तुम्हें फूल कहूँ या-
फूल हैं तुम्हारे जैसे,
तुम मानो न मानो-
मुझे लगता है ऐसे।
तुम्हें लग गया हो-
सोलहवां साल जैसे॥

परिचय–उत्तराखण्ड के जिले ऊधम सिंह नगर में डॉ. पूनम अरोरा स्थाई रुप से बसी हुई हैं। इनका जन्म २२ अगस्त १९६७ को रुद्रपुर (ऊधम सिंह नगर) में हुआ है। शिक्षा- एम.ए.,एम.एड. एवं पीएच-डी.है। आप कार्यक्षेत्र में शिक्षिका हैं। इनकी लेखन विधा गद्य-पद्य(मुक्तक,संस्मरण,कहानी आदि)है। अभी तक शोध कार्य का प्रकाशन हुआ है। डॉ. अरोरा की दृष्टि में पसंदीदा हिन्दी लेखक-खुशवंत सिंह,अमृता प्रीतम एवं हरिवंश राय बच्चन हैं। पिता को ही प्रेरणापुंज मानने वाली डॉ. पूनम की विशेषज्ञता-शिक्षण व प्रशिक्षण में है। इनका जीवन लक्ष्य-षड दर्शन पर किए शोध कार्य में से वैशेषिक दर्शन,न्याय दर्शन आदि की पुस्तक प्रकाशित करवाकर पुस्तकालयों में रखवाना है,ताकि वो भावी शोधपरक विद्यार्थियों के शोध कार्य में मार्गदर्शक बन सकें। कहानी,संस्मरण आदि रचनाओं से साहित्यिक समृद्धि कर समाजसेवा करना भी है। देश और हिंदी भाषा के प्रति विचार-‘हिंदी भाषा हमारी राष्ट्र भाषा होने के साथ ही अभिव्यक्ति की सरल एवं सहज भाषा है,क्योंकि हिंदी भाषा की लिपि देवनागरी है। हिंदी एवं मातृ भाषा में भावों की अभिव्यक्ति में जो रस आता है, उसकी अनुभूति का अहसास बेहद सुखद होता है।

Leave a Reply