रचना पर कुल आगंतुक :182

प्रकृति को बचायेंगे

प्रिया देवांगन ‘प्रियू’
पंडरिया (छत्तीसगढ़)
***********************************************************************
एक-एक पेड़ लगायेंगे,प्रकृति को बचायेंगे,
पेड़-पौधे लगाकर,शुद्ध हवा सब पायेंगे।
पौधे सभी लगायेंगे,ताजे-ताजे फल खायेंगे,
सेहत अपना बनायेंगे,सादा जीवन अपनायेंगेll

सोनू-मोनू चिंटू-पिन्टू,सब मिलकर पेड़ लगायेंगे,
रोज डालेंगे पानी उसमें,प्रकृति को बचायेंगे।
चारों तरफ घेरा लगाकर,गाय-बकरी से बचायेंगे,
क्यारी बनाकर मिट्टी ड़ालें,नये-नये पौधे लगायेंगेll

Leave a Reply