कुल पृष्ठ दर्शन : 353

You are currently viewing भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
********************************************

दौलत धन के फेर में, करते अत्याचार।
तभी पनपते हैं यहाँ, साथी भ्रष्टाचार॥
साथी भ्रष्टाचार, देखकर मुँह मत मोड़ो।
इसका करो विरोध, झूठ का दामन छोड़ो॥
कहे ‘विनायक राज’, खून है देखो खौलत।
बच के रहना यार, आज खतरा धन दौलत॥

Leave a Reply