Visitors Views 70

माँ का आँचल

मनीषा मेवाड़ा ‘मनीषा मानस’
इन्दौर(मध्यप्रदेश) 
****************************************************************
माँ! मुझे अब भी तेरा आँचल चाहिए,
यह दुनिया मुझे बहुत सताती
अब भी मुझे बचपन सा दुलार चाहिए,
माँ! मुझे अब भी तेरा आँचल चाहिए।
प्रेम,करुणा,दया का पाठ तूने सिखाया,
अपनों ने उसको झुठलाया
मुझे फिर भी सरलता का वो भाव चाहिए,
माँ! मुझे अब भी तेरा आँचल चाहिए।
बेईमानी का पाठ सिखाते,
झूठ,कपट से झोली भर जाते
छलनी है और घावों से भरा है मन,
इस पर भी थोड़ा-सा मरहम चाहिए।
माँ! मुझे अब भी तेरा आँचल चाहिए,
आँखें रहती है हरदम अश्रुओं से नम
इनको भी अब थोड़ा सुकून चाहिए
माँ! मुझे अब भी तेरा आँचल चाहिए।
होंठों की मुस्कान जो तूने दी,
डरती है वो भी अब इस दुनिया से
इन सबसे अब मुझको विश्राम चाहिए,
माँ! मुझे अब भी तेरा आँचल चाहिए।
माँ! मुझे अब भी तेरा आँचल चाहिए॥
परिचय-श्रीमति मनीषा मेवाड़ा का साहित्यिक मनीषा मानस है। जन्म तारीख ३ अगस्त १९८१ और जन्म स्थान-झाबुआ है। वर्तमान में इन्दौर(मध्यप्रदेश) में और स्थाई निवास आष्टा जिला-सीहोर है। हिन्दी का भाषा ज्ञान रखने वाली मध्यप्रदेश वासी मनीषा मानस ने बी.ए.(हिन्दी साहित्य),एम.ए. (अर्थशास्त्र-लघु शोध प्रबन्ध के साथ) और पीजीडीसीए की शिक्षा हासिल की है। इनका कार्यक्षेत्र-शिक्षक का है। सामाजिक गतिविधि में जरुरतमंद बच्चों को सामाजिक संगठन से हरसम्भव मदद दिलाने का सफल प्रयास करती हैं। लेखन विधा-लेख एवं काव्य है। आपकी विशेष उपलब्धि-महाविद्यालय जिला स्तर प्रतियोगिता में रचनात्मक लेखन में चयन तथा कार्यक्षेत्र में जिला स्त्रोत समूह के रुप में कार्य का अवसर है। लेखनी का उद्देश्य-हिन्दी लेखन में रुचि है। पसंदीदा हिन्दी लेखक-मुंशी प्रेमचन्द और प्रेरणापुँज-गुरुजन हैं। देश और हिन्दी भाषा पर आपका कहना है-“हिन्दी भाषा की समृद्धि ही देश विकास के चिन्तन को प्रमुख आधार प्रदान करती है।”