कुल पृष्ठ दर्शन : 260

You are currently viewing वक्त़ जाया ना कर

वक्त़ जाया ना कर

बबीता प्रजापति ‘वाणी’
झाँसी (उत्तरप्रदेश)
******************************************

फ़िज़ूल की बातों में,
वक़्त जाया न कर
राह कोई मांगे,
भरमाया न कर।

वो करता है हिसाब,
नेकी और बदी के
करके एहसान किसी पे,
जताया न कर।

सुना है, बिन मांगे,
मिल जाता सब-कुछ
खुदा के नेक बंदों को,
इबादत में सर झुका
हाथ फैलाया न कर॥

Leave a Reply