Visitors Views 47

हिन्दी साहित्य भारती ने दी प्रख्यात साहित्यकार मृदुला सिन्हा को भावभीनी श्रद्धांजलि

दिल्ली।

हिन्दी साहित्य भारती द्वारा ऑनलाइन श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर हिन्दी साहित्य भारती के मार्गदर्शक मण्डल की वरिष्ठ सदस्य, प्रख्यात साहित्यकार एवं गोवा की पूर्व राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा के आकस्मिक निधन पर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
हिन्दी साहित्य भारती के मार्गदर्शक और हरियाणा के पूर्व राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी ने श्रीमती सिन्हा को महान व्यक्तित्व और कृतित्व की धनी बताते हुए कहा कि उनके व्यवहार में चुम्बकीय आकर्षण था। मृदुला जी यथा नाम तथा गुण की कहावत को पूर्णतया चरितार्थ करती थी। श्री सोलंकी ने कहा कि उन्होंने साहित्यिक, सामाजिक,सांस्कृतिक और राजनीतिक क्षेत्र में अपने श्रेष्ठ कार्यों से बहुत नाम कमाया।
भारती के केन्द्रीय महामन्त्री डॉ. अनिल शर्मा ने बताया कि,भारती के दूसरे मार्गदर्शक श्री पचंदश नाम जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर पूज्य स्वामी यतीन्द्रानन्द गिरी जी महाराज ने श्रीमती मृदुला सिन्हा को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनसे मिलने वाला कोई भी व्यक्ति बिना प्रभावित हुए नहीं रहा। उनकी विनम्रता,मृदुभाषिता और कुशल व्यवहार का हर कोई कायल था।
भारती के केन्द्रीय अध्यक्ष डॉ. रवींद्र शुक्ल ने मृदुला जी के निधन को अपनी व्यक्तिगत क्षति बताते हुए कहा कि उन्होंने सदैव बड़ी बहन का प्यार दिया। मृदुला जी समर्पित समाजसेवी,कुशल राजनीतिज्ञ और लोक जीवन की चितेरी साहित्यकार थी।
डॉ. शर्मा ने बताया कि,श्रद्धांजलि सभा में भारती के पन्ने पर उनके हजारों चाहने वालों ने अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की,वहीं भारती की प्रदेश इकाईयों के प्रतिनिधियों के रूप में डॉ. नलिनी पुरोहित,डॉ. अरुण सज्जन,डॉ. रमा शर्मा, डॉ.सुरभि दत्त,डॉ. क्रांति कनाटे,डॉ. कविता भट्ट ‘शैलपुत्री’ एवं डॉ. निधि द्विवेदी आदि ने भी श्रद्धा सुमन अर्पित किए।