रचना पर कुल आगंतुक :213

बच्चों में बढ़ती संस्कारहीनता,रोकना होगा

सुरेश चन्द्र ‘सर्वहारा’
कोटा(राजस्थान)
***********************************************************************************
बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं। हमारी इसी पीढ़ी पर देश का भविष्य टिका हुआ है। इस भावी पीढ़ी को संस्कारित करके ही अच्छा नागरिक बनाया जा सकता है,लेकिन आज के परिवेश में हम देखें तो माँ-बाप बच्चों को संस्कारित करने में जागरूक नहीं हैं। वर्तमान में संयुक्त परिवारों के विघटन के कारण बच्चे एकाकीपन और असुरक्षा का भाव अनुभव कर रहे हैं। एकल परिवार में माँ-बाप के पास बच्चों के लिए समय नहीं हैं। महिलाएँ पारिवारिक आवश्यकताओं और बढ़ती महत्वाकांक्षाओं के कारण नौकरी करने के लिए विवश हैं। आया एवं झूलाघरों में बच्चों को अपनापन नहीं मिल पाता,जिससे उनमें विद्रोह और क्रोध के भाव उत्पन्न होने लगते हैं। संस्कारों की जगह गलत प्रवृत्तियाँ जन्म लेने लगती है। बच्चों के हाथ में मोबाइल थमा कर अभिभावक अपना समय बचाने का प्रयास करते हैं। उनको इस बात की चिंता नहीं है कि इन्टरनेट बच्चों के स्वास्थ्य और चरित्र के लिए कितना घातक हो सकता है। गलत मनोरंजन,हिंसक खेल,उत्तेजक संगीत, अश्लील दृश्य बच्चों को धीरे-धीरे आपराधिक प्रवृत्तियों की ओर धकेल देते हैं। बच्चों की अच्छी-बुरी हर बात मानकर माता-पिता बच्चों में अनुशासनहीनता को बढ़ावा दे रहे हैं। छोटे-छोटे बच्चों को तेज गति के वाहन दिलाकर माता-पिता अपने बच्चों का ही नहीं, वरन् दूसरों का जीवन भी खतरे में डाल रहे हैं। अगर हम समय पर बच्चों को संस्कारित नहीं करेंगे तो इसके दूरगामी परिणाम भयानक होंगे। छोटी उम्र के बच्चों की नशा, चोरी,हत्या एवं दुष्कर्म जैसी घटनाओं में संलिप्तता चिन्ता का विषय है। आवश्यक है कि हम अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के साथ ही बच्चों की गतिविधियों पर नजर रखें। उनको गलत बात पर रोककर संस्कारों का बीजारोपण करें। संस्कार ही हमारे जीवन की सबसे बड़ी सम्पदा है।

परिचय-सुरेश चन्द्र का लेखन में नाम `सर्वहारा` हैl जन्म २२ फरवरी १९६१ में उदयपुर(राजस्थान)में हुआ हैl आपकी शिक्षा-एम.ए.(संस्कृत एवं हिन्दी)हैl प्रकाशित कृतियों में-नागफनी,मन फिर हुआ उदास,मिट्टी से कटे लोग सहित पत्ता भर छाँव और पतझर के प्रतिबिम्ब(सभी काव्य संकलन)आदि ११ हैं। ऐसे ही-बाल गीत सुधा,बाल गीत पीयूष तथा बाल गीत सुमन आदि ७ बाल कविता संग्रह भी हैंl आप रेलवे से स्वैच्छिक सेवानिवृत्त अनुभाग अधिकारी होकर स्वतंत्र लेखन में हैं। आपका बसेरा कोटा(राजस्थान)में हैl

Leave a Reply