Visitors Views 78

मेरा अभिमान

डॉ.शैल चन्द्रा
धमतरी(छत्तीसगढ़)
************************************************

आज राधा बहुत खुश थी। वर्षों पुराना उसका स्वप्न आज साकार हो गया था। वह बहुत गर्व महसूस कर रही थी। अनायास ही वह यादों के समंदर में डूब गई। बचपन से उसने कलेक्टर बनने का सपना देखा था। जब वह छोटी बच्ची थी तो उसके विद्यालय में एक बार कलेक्टर आए थे। कलेक्टर के रुतबे और कार्य से वह बड़ी प्रभावित हुई थी। तभी से उसने मन ही मन फैसला किया था कि एक दिन वह कलेक्टर जरूर बनेगी।
वह मन लगाकर पढ़ने लगी। उसके माता-पिता भी उसका भरपूर सहयोग करते। धीरे-धीरे उसने विद्यालय-महाविद्यालय की सारी परीक्षाएं प्रथम श्रेणी में उतीर्ण की। अब उसकी असली परीक्षा की घड़ी थी। उसने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की, परन्तु भाग्य को कुछ और ही मंजूर था। ऐन परीक्षा के समय एक दुर्घटना में उसके पिता की मृत्यु हो गई। इस घटना से वह बुरी तरह टूट गई। पिता की लाड़ली बेटी अनाथ हो गई। अब उसके घर की हालत पतली होती गई। इस बीच एक अच्छा रिश्ता आने पर माँ ने उसकी जैसे-तैसे शादी कर दी।
शादी के बाद उसकी जिंदगी पूरी तरह बदल गई।उसका जीवन अब रसोई के बर्तनों के साथ बीतने लगा। समय के साथ उसके २ बेटे हुए। आज उसका बड़ा बेटा इंजीनियर है,छोटा शाला का मास्टर। उसकी बड़ी इच्छा थी कि दोनों बेटों में से एक कलेक्टर बने, पर यह सम्भव हो न सका।
उसके बड़े बेटे का विवाह एक प्रतिभाशाली लड़की से हुआ। बस उसने ठान लिया कि,क्या हुआ वह स्वयं कलेक्टर नहीं बन पाई,बेटे भी नहीं बन पाए,परन्तु अब वह बहु को कलेक्टर जरूर बनाएगी।
उसने बहु को अपने मन की बात बताई। बहु यह सुनकर बहुत प्रसन्न हुई। वह भी आगे पढ़ना चाहती थी। कुछ बनना चाहती थी,परंतु पिता की गरीबी के कारण वह आगे बढ़ नहीं पाई। अब यह सुनहरा मौका वह छोड़ना नहीं चाहती थी।
राधा ने अपनी बहु को प्रेरित किया। वह उसका पूरा-पूरा सहयोग करती। बहु ने अब कोचिंग शुरू कर ली। वह मन लगाकर तैयारी करने लगी। नतीजा यह हुआ कि वह पहले ही प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा में चयनित हो गई। वह कलेक्टर बन गई,यह सुनकर राधा तो जैसे खुशी से बावली हो गई। पूरे मोहल्ले में उसने लड्डू बांटे। मोहल्ले की एक चाची ने व्यंग्य से कहा-अरी राधा,तू या तेरा बेटा कलेक्टर नहीं बने हैं।बहु बनी है,फिर भी तू इतनी ज्यादा खुश है। अरे,बहु तो बहु ही होती है। ऐसे भी क्या खुश होना ?
राधा ने कहा,-क्या हुआ अगर मैं अपना यह सपना पूरा नहीं कर पाई और बेटों ने भी पूरा नहीं किया तो मेरी बेटी जैसी बहु ने मेरा यह सपना पूरा किया। मुझे अपनी बेटी जैसी बहु पर गर्व है। लोग आजकल नारा लगाते हैं-बेटी मेरा अभिमान।मैं कहती हूँबहु मेरा अभिमान।`
यह सुनकर चाची ने मौन रहकर राधा का समर्थन किया।

परिचय-डॉ.शैल चन्द्रा का जन्म १९६६ में ९ अक्टूम्बर को हुआ है। आपका निवास रावण भाठा नगरी(जिला-धमतरी, छतीसगढ़)में है। शिक्षा-एम.ए.,बी.एड., एम.फिल. एवं पी-एच.डी.(हिंदी) है।बड़ी उपलब्धि अब तक ५ किताबें प्रकाशित होना है। विभिन्न कहानी-काव्य संग्रह सहित राष्ट्रीय स्तर के पत्र-पत्रिकाओं में डॉ.चंद्रा की लघुकथा,कहानी व कविता का निरंतर प्रकाशन हुआ है। सम्मान एवं पुरस्कार में आपको लघु कथा संग्रह ‘विडम्बना’ तथा ‘घर और घोंसला’ के लिए कादम्बरी सम्मान मिला है तो राष्ट्रीय स्तर की लघुकथा प्रतियोगिता में सर्व प्रथम पुरस्कार भी प्राप्त किया है।सम्प्रति से आप प्राचार्य (शासकीय शाला,जिला धमतरी) पद पर कार्यरत हैं।