sammelan

5 Results

`मातृभाषा` को संभालने की जरूरत

प्रो. गिरीश्वर मिश्र दिल्ली ************************************************************* यूनेस्को ने २१ फरवरी को ‘मातृ भाषा दिवस’ मनाने का निश्चय करने के बाद भारत सरकार ने भी इसका फरमान जारी किया है और इसके […]

जनतंत्र में जनभाषा ही होनी चाहिए न्याय की भाषा

जम्मू-कश्मीर राज्य का उर्दू भाषा से दूर-दूर तक कोई रिश्ता नहीं रहा। उर्दू का उदय दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्रों में ही हुआ था। कश्मीर में तो इस्लामिक शासन […]

भारतीय भाषाओं के लिए चुनावी माँग-पत्र

सन् २०१९ में सत्रहवीं लोकसभा चुनाव के लिए मुम्बई। भारत की संस्कृति को एक पीढ़ीसे दूसरी पीढ़ी तक पहुँचाते हुए आगे बढ़ाने का काम करती हैं हमारी भारतीय भाषाएँ। यदि […]

पत्र को हस्ताक्षर-पते सहित प्रधानमंत्री को भेजने का अनुरोध

मुम्बई। भारत को इंडिया की अपेक्षा भारत नाम से ही पुकारे जाने के अभियान के अंतर्गत प्रधानमंत्री को पत्र लिखने का बीड़ा उठाया गया है। खुद के हस्ताक्षर-पते सहित प्रधानमंत्री […]

१९वीं शताब्दी में ही भारतीय संस्कृति और भाषाओं के प्रति काफी रुचि बढ़ गई थी रूस में

मास्को विश्वविद्यालय की प्रो.डॉ.खोखलोवा ने कहा अंतरराष्ट्रीय भाषा के रूप में हिन्दी:रूस के संदर्भ में पर व्याख्यान में गुरुग्राम (हरियाणा)l पंद्रहवीं शताब्दी में रूस में भारतीय भाषाओं के प्रति रुचि […]