vishwkarma

3 Results

मैं रहूँ न रहूँ

उमा विश्वकर्माकानपुर (उत्तर प्रदेश) **************************************** मैं रहूँ न रहूँ,देश प्यारा रहे,आँसमा में तिरंगा,हमारा रहेआन-बान-शान,ऐसे ही बढ़ती रहे,विश्व में मुल्क अपना दुलारा रहे। तन समर्पित तुम्हें,मन समर्पित तुम्हें,जिंदगी के सभी,पल हैं […]

पीड़ा हर सकूँ सबकी

सतीश विश्वकर्मा ‘आनंद’ छिंदवाड़ा (मध्यप्रदेश) ****************************************************************************** मुझे आशीष दो इतना कि ऊँचा नाम बन जाऊँ, पीड़ा हर सकूँ सबकी अगर घनश्याम बन जाऊँ। करूँ परिवार की खातिर कि जो भी […]

जैसा मैं सोचता हूँ

सतीश विश्वकर्मा ‘आनंद’ छिंदवाड़ा (मध्यप्रदेश) ****************************************************************************** शब्द मैंने लिखे जो अमर हो गए। कुछ तो ऐसे लिखे कि समर हो गए। बारहा वो सितम मुझपे करता रहा, मैंने हमले किये […]