Visitors Views 52

घर से सड़क तक दौड़ता मन

डॉ.हेमलता तिवारी
भोपाल(मध्य प्रदेश)
**********************************************************

‘अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस’ स्पर्धा विशेष…………………


घर से सड़क तक दौड़ता मन
बेचैन मन उद्वेलित,आशंकित सशंकित
भटक रहा इधर-उधर,
कभी खिड़की कभी दरवाजे,और
कभी सड़क तक दौड़ता मन…।
अब तक न आया जीवनसाथी,
अब तक न आयी जीवन जननी
और अब तक न आयी इकलौती बहन
घर से सड़क तक दौड़ता मन…।
क्या करूं जतन ?
मोबाईल है बंद,कहां गये सब अचानक,
कुछ हो न गयी हो उलझन
पढ़ी हुई रोज की अखबार की खबरें,
याद कर-करके घबराया हुआ मन
घर से सड़क तक दौड़ता मन…। आँखों के सामने दौड़ते मंजर
रोज सुबह से शाम तलक,
स्कूल जाते-जाते भी नाश्ता कराती माँ,
ऑफिस जाते-जाते भी
मेरे रूमाल,चाबी,टाई,फाईलें, चश्मा सहेजती
टेबल पर रखना नहीं भूलती बीबी,
कुछ मनवाने कभी चाय,कभी मैंगी तो कभी पॉपकार्न लाती,
मेरी इकलौती मासूम प्यारी बहन,
कहाँ हैं सब-मेरा बेचैन मन,
घर से सड़क तक दौड़ता मन…।
बेटा भी नहीं आया अब तक,
किससे बांटू अपना मन
हठात् ये क्या ?
सोचते-सोचते ठिठका मन,
मैं-मेरा बेटा हम दोनों अपाहिज तो नहीं ?
फिर भी सब कुछ हाथों पर ?
हमारा अपना घर के काम-काज में क्या योगदान ?
रूक गया!!!
घर से सड़क तक दौड़ता मन…।
आज बस आ जायें मेरे प्रियजन,
सुबह की चाय बेटा बना लेगा
मैं पोहा बना सकता हूँ-बना लूंगा,
दूध गरम कर दूंगा
सब्जी काट दूंगा,
पेपर,चाय के साथ बीबी को दूंगा
अपने सारे काम खुद करूंगा,
बस किसी तरह आ जायें मेरे प्रियजन,
घर से सड़क तक भटकता मेरा मन…।
अचानक आटो आता दिखा,
हाँ,ये सब तो मेरे हैं
मेरे अपने प्रियजन,
थोड़ी साँस आयी
चहकती-भागती मेरी बहन,
दादा आज ‘महिला दिवस’ है हमने फ्री में पिक्चर देखी
मैंने झोले संभाले-अंदर गया,
वो सब पिक्चर की बातों में मगन
भरा-भरा-सा ठहर गया मेरा मन,
चाय-पानी से भरे गिलास,मगों के साथ
उनके पास,मेरा भीगा मन,
उनका आश्चर्यचकित खुशी से उमगता मन
पत्नी की किलकारी और माँ की चहकती आवाज,
आज सचमुच हमारे घर में महिला दिवस है।
सबको साथ पाकर ठहर गया,
घर से सड़क तक दौड़ता मेरा मन…
घर से सड़क तक दौड़ता मेरा मन॥

परिचय-डॉ.हेमलता तिवारी का जन्म १४ नवम्बर १९६५ को सागर में हुआ हैl वर्तमान में छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में निवास है,जबकि स्थायी पता भोपाल(मध्य प्रदेश) हैl बी.एस-सी,(जीवविज्ञान)बी.ए.(संगीत), एम.ए (संगीत, इतिहास, दर्शन,लोक प्रशासन,एजूकेशनल सायकोलॉजी, क्लीनिकल साय.,आर्गेनाइजेशनल साय.)एल.एल.बी.,पी.जी.डी.(लेबर लॉ एंड इण्डस्ट्रियल रिलेशन)सहित पी.एच-डी.(इन क्लीनिकल साय.), एम.बी.ए.(वित्त और मानव संसाधन) की शिक्षा प्राप्त डॉ.तिवारी का कार्य क्षेत्र-नौकरी हैl सामाजिक गतिविधि के तहत आप व्यक्तित्व विकास प्रशिक्षक,परामर्शी सहित ज्योतिष लेखन में सक्रिय हैंl इनकी लेखन विधा-कविता,कहानी एवं आलेख हैl हिन्दी सहित अंग्रेजी का भाषा ज्ञान रखती हैं।