कुल पृष्ठ दर्शन : 125

You are currently viewing कठिन है जीवन

कठिन है जीवन

अजय जैन ‘विकल्प’
इंदौर(मध्यप्रदेश)
******************************************

संघर्ष बड़ा
कठिन है जीवन
बेबस खड़ा।

रिश्ते उलझे
जीने की मारा-मारी
कैसे सुलझे ?

रोटी की चिंता
सपना है मंज़िल
रोज कमाना।

संतान खुशी
निरंतर संघर्ष
घिसी चप्पल ।

खुद से करो
दूजों से प्रेम रखो
मानवता हो।

झूठ न बोलो
सब रह जाएगा
मीठा ही बोलो।

ईश्वर सत्य
प्रार्थना में हो यकीं
फल मिलेगा ।

साथ ना जाता
सम्बन्ध निभा बस
प्रेम रहता।

करो भलाई
जियो ऐसा जीवन
न हो बुराई।

द्वैष घातक
देना सदा धरा को
बनो गगन।

खुशियाँ देखो।
जीवन को समझो
सु-पथ चलो।

घमंड दूरी
स्वाभिमान भला है
बनिए श्रेष्ठ॥