Visitors Views 33

धरा तू महान है

मनोरमा जोशी ‘मनु’ 
इंदौर(मध्यप्रदेश) 
****************************************************

विश्व धरा दिवस स्पर्धा विशेष………


है धरती माँ,तुझे प्रणाम,
तू कितनी है महान।
तेरे आँचल में पले जग सारा ,
हर प्राणी की तू है जान,
तू बड़ी महान।
सम भाव से सबको हांके
चहुँऔर रखती हैं ध्यान,
हर समस्या का समाधान ,
तू बड़ी हैं महान।
कभी बहाती तीव्र धारा,
कभी रूखा रेगिस्तान
हर कृषक की पालनहार,
तू हैं अमिट निशान
तू बड़ी हैं महान।
तुझ पर अडिग थमे हुए हैं
महल कचहरी और मकान,
कितने बोझ सहन कर
तुमने किया जन-जन पर उपकार,
तेरी महिमा अपरम्पार
तुझमें उर्वरक शक्ति महान,
तुझसे रोशन सारा जहाँन
तू माँ बड़ी महान।
शत-शत करूँ प्रणामll

परिचय–श्रीमती मनोरमा जोशी का निवास मध्यप्रदेश के इंदौर जिला स्थित विजय नगर में है। आपका साहित्यिक उपनाम ‘मनु’ है। आपकी जन्मतिथि १९ दिसम्बर १९५३ और जन्मस्थान नरसिंहगढ़ है। शिक्षा-स्नातकोत्तर और संगीत है। कार्यक्षेत्र-सामाजिक क्षेत्र-इन्दौर शहर ही है। लेखन विधा में कविता और लेख लिखती हैं।विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में आपकी लेखनी का प्रकाशन होता रहा है। राष्ट्रीय कीर्ति सम्मान सहित साहित्य शिरोमणि सम्मान और सुशीला देवी सम्मान प्रमुख रुप से आपको मिले हैं। उपलब्धि संगीत शिक्षक,मालवी नाटक में अभिनय और समाजसेवा करना है। आपके लेखन का उद्देश्य-हिंदी का प्रचार-प्रसार और जन कल्याण है।कार्यक्षेत्र इंदौर शहर है। आप सामाजिक क्षेत्र में विविध गतिविधियों में सक्रिय रहती हैं। एक काव्य संग्रह में आपकी रचना प्रकाशित हुई है।