रचना पर कुल आगंतुक :222

पैसे और प्रमाण-पत्र

दीपक शर्मा

जौनपुर(उत्तर प्रदेश)

*************************************************

पैसे में बनते हैं चरित्र प्रमाण-पत्र,
अधिकारी आपके चरित्र के बारे में
जाँच नहीं करते
उनके यहाँ चरित्र का
एक निश्चित दाम होता हैl
दस रुपये सामान्य चरित्र,
बीस रुपये अच्छा चरित्र
सौ रुपये उत्तम चरित्र
सामान्य चरित्र के लिए,
कुछ रिकार्ड भले ही देखें जाते हों
पर उत्तम चरित्र के लिए,
मेज के नीचे से मुट्ठियों भरा
बढ़ता हुआ हाथ देखा जाता है।

पैसे से बनते हैं स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र,
अधिकारी आपके स्वास्थ्य के बारे में
जाँच नहीं करते
उनके यहाँ स्वास्थ्य का
एक निश्चित दाम होता हैl
दस रुपये सामान्य स्वास्थ्य,
बीस रुपये अच्छा स्वास्थ्य
सौ रुपये उत्तम स्वास्थ्य
सामान्य स्वास्थ्य के लिए
कुछ जाँच भले ही होती हो,
पर उत्तम स्वास्थ्य के लिए
मेज के नीचे से मुट्ठियों भरा,
बढ़ता हुआ हाथ देखा जाता हैll

परिचय-दीपक शर्मा का स्थाई निवास जौनपुर के ग्राम-रामपुर(पो.-जयगोपालगंज केराकत) उत्तर प्रदेश में है। आप काशी हिंदू विश्वविद्यालय से वर्ष २०१८ में परास्नातक पूर्ण करने के बाद पद्मश्री पं.बलवंत राय भट्ट भावरंग स्वर्ण पदक से नवाजे गए हैं। फिलहल विद्यालय में सहायक अध्यापक के पद पर कार्यरत हैं।आपकी जन्मतिथि २७ अप्रैल १९९१ है। बी.ए.(ऑनर्स-हिंदी साहित्य) और बी.टी.सी.( प्रतापगढ़-उ.प्र.) सहित एम.ए. तक शिक्षित (हिंदी)हैं। आपकी लेखन विधा कविता,लघुकथा,आलेख तथा समीक्षा भी है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में इनकी कविताएँ व लघुकथा प्रकाशित हैं। विश्वविद्यालय की हिंदी पत्रिका से बतौर सम्पादक भी जुड़े हैं। दीपक शर्मा की लेखनी का उद्देश्य-देश और समाज को नई दिशा देना तथा हिंदी क़ो प्रचारित करते हुए युवा रचनाकारों को साहित्य से जोड़ना है।विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं द्वारा आपको लेखन के लिए सम्मानित किया जा चुका है।

Leave a Reply