Visitors Views 54

माँ

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
********************************************************************

मातृ दिवस स्पर्धा विशेष…………


माँ की ममता से बड़ा,नहीं मोल है आज।
माता सम भगवान है,रखना इसकी लाजll

जगजननी माँ रूप है,हम उनकी सन्तान।
आओ जी सेवा करो,करो नहीं अपमानll

रक्षा करना धर्म है,कभी नहीं हो पाप।
बेटा चलो चुकाइए,कर्ज दूध का आपll

माता है अधिकारिणी,बेटा देना प्यार।
भूल न जाना तुम इसे,कभी न करना वारll

माँ की है महिमा बड़ी,मातु चरण सुखधाम।
माँ के आँचल में छुपा,देखो विश्व तमामll

माँ की ममता रख हृदय,देखो अंतर्ध्यान।
जग जननी जगदम्बिके,महिमा बड़ी महानll