Visitors Views 15

युवाओं को परिवार का महत्व समझाएं और समझें

डॉ.अरविन्द जैन
भोपाल(मध्यप्रदेश)
*****************************************************

अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस विशेष-१५ मई………..
जिस प्रकार हमारे यहाँ सात दिनों के साथ वार होते हैं और आठवां वार परिवार होता है,परिवार जिसमें प्रेम,आदर,दूसरों के विचारों का आदर,साथ बैठकर अपने सुख-दु:ख का आदान-प्रदान करना,वह परिवार होता हैl आज बहुत बड़े-बड़े घर बनने के कारण आपस में मिलना-जुलना कम होता जा रहा है,आदमी स्व-केन्द्रित होता जा रहा है,जिसके कारण परिवार दिवस मनाना पड़ रहा हैl
१५ मई को संयुक्त राष्ट्र के मुख्यालय और दुनियाभर में अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया जाता है। १९९३ में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने संकल्प के साथ आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा की थी और यह दिवस यह दर्शाता है कि वैश्विक समुदाय परिवारों को कैसे जोड़ा जाए। यह परिवारों से संबंधित मुद्दों के बारे में जागरूकता फैलाने और परिवारों को प्रभावित करने वाले आर्थिक,जनसांख्यिकीय और सामाजिक प्रक्रियाओं के ज्ञान को बढ़ाने के लिए अवसर प्रदान करता है।
यूनिवर्सल पीस फेडरेशन भी इस दिन का जश्न मनाने में पीछे नहीं रहता,क्योंकि यह परिवार को एक वैश्विक समुदाय के लघु रूप में पेश करता है। फेडरेशन यह भी मानती है कि परिवार में स्थायी शांति सबसे समर्पित सामाजिक इकाई (शांति और प्यार का स्कूल) है।
२० सितंबर १९९३ को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने नामित एक संकल्प पारित किया जिसने ४४ /८२ नामक संकल्प को दोहराया,जिसे दिसम्बर १९८९ में उत्तीर्ण किया गया था और ४६ /९२ नामित संकल्प पारित किया गया जिसे दिस. १९९१ में उत्तीर्ण किया गया था। इन्हें पुन: निर्दिष्ट और दुनिया भर के परिवारों के बेहतर जीवन मानकों और सामाजिक प्रगति को प्रोत्साहित करने और संयुक्त राष्ट्र के दृढ़ संकल्प को प्रदर्शित करने के लिए पारित किया गया था।
१९९४ में संयुक्त राष्ट्र ने आधिकारिक रूप से संशोधित आर्थिक और सामाजिक संरचनाओं के जवाब में परिवारों के अंतर्राष्ट्रीय दिवस को घोषित किया l यह दिन १९९३ में शुरू किया गया था और दुनियाभर में लोगों,समाजों,संस्कृतियों और परिवारों के सार को मनाने के लिए काम करने के लिए एक अवसर के रूप में कार्य करता है। अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस के प्रतीक में एक हरे गोलाकार चित्र में लाल रंग की छवि शामिल है। इस प्रतीक में एक घर और एक दिल शामिल हैं। इससे यह तथ्य साफ़ होता है कि परिवार किसी भी समाज का केंद्र हिस्सा हैं और वे सभी आयु वर्ग के लोगों के लिए एक समर्थन और स्थिर घर प्रदान करते हैं।
हर साल अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य परिवार के महत्व को स्वीकार करना और दुनियाभर के लोगों को परिवारों को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर जागरूकता बढ़ाने का है। यह वार्षिक उत्सव इस बात को दर्शाता है कि वैश्विक समुदाय परिवारों को समाज की प्राथमिक इकाइयों के रूप में जोड़ता है। अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस उचित परिस्थितियों को बढ़ावा देने के अलावा परिवारों से संबंधित मुद्दों पर जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए परिस्थितियों का सही मेल प्रदान करता है। यह दिन सभी देशों में परिवारों के सर्वोत्तम हित में एक शक्तिशाली जागृति कारक के रूप में कार्य करता है जो इस अनुकूल अवसर से स्वयं को लाभ देता है और प्रत्येक समाज के लिए अनुकूल परिवारों से संबंधित मुद्दों के समर्थन का प्रदर्शन करता है। वर्षों से इस दिवस ने अपने स्वयं के परिवार दिवस या जागरूकता कार्यक्रमों को बनाने के लिए दुनिया के कई देशों को प्रेरित किया है जो परिवार के मुद्दों पर ध्यान देने के लिए समुदाय पर आधारित हैं।
अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस का जश्न परिवारों और नीतियों की ओर केन्द्रित था जो शिक्षा को बढ़ावा देने और अपने सदस्यों की सामान्य भलाई के लिए थे। विशेष रूप से यह दिन बचपन की शिक्षा को बढ़ावा देने में परिवारों की भूमिका के बारे में जागरूकता फैलाने और युवाओं और बच्चों के लिए आजीवन सीख देने से संबंधित है।
इस वर्ष की भूमिका में परिवार में सभी देखभाल करने वालों के महत्व पर प्रकाश डाला गया चाहे वह भाई-बहन हो या माता-पिता या दादा-दादी या फिर बच्चों के कल्याण के लिए माता-पिता द्वारा दी गई शिक्षा का महत्व हो। उनकी देखभाल और शैक्षिक भूमिकाओं में माता-पिता की सहायता के लिए कार्य और जीवन में संतुलन बनाए रखने के लिए अच्छे अभ्यासों पर जोर दिया गया। नौकरी करने वाले माता-पिता के लिए एक सहयोग के रूप में निजी क्षेत्र से अच्छे अभ्यासों को भी उजागर किया गया है। इसके अलावा कार्यस्थलों में बड़े व्यक्तियों और युवाओं के समर्थन को भी रेखांकित किया गया है।
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर परिवार दिवस को दुनिया भर में विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है। कुछ समुदायों ने वर्ष के लिए निर्धारित भूमिका के लिए प्रासंगिक विचारों के अनुरूप चर्चा या सार्वजनिक प्रदर्शनियों को व्यवस्थित करके इस दिन को मनाने का विकल्प चुना है। अन्य समुदाय युवाओं और बच्चों के लिए शिक्षा सत्र आयोजित करके दिन का जश्न मनाते हैं। सार्वजनिक अधिकारी नीतियों पर चर्चा करने के लिए नीति बैठकें भी आयोजित करते हैं जो परिवारों को सीधे प्रभावित करती हैं। कुछ लोग अपने परिवार के साथ इस दिन को मनाते हैं। हालांकि इस दिन को पूरे विश्व में विभिन्न समुदायों और लोगों द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाता है फिर भी इस दिन को सार्वजनिक अवकाश के रूप में घोषित नहीं किया गया है। इसलिए इस दिन सभी सरकारी कार्यालय खुले रहने की संभावना है साथ ही व्यवसाय और डाक वितरण सेवाएं भी।
अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस हर साल भारत में विभिन्न परिवारों के मुद्दों पर जागरूकता बढ़ाने और परिवारों के महत्व को स्वीकार करने के लिए मनाया जाता है। यह दिन देश के विभिन्न संगठनों द्वारा मनाया जाता है,जहां संगठन के सदस्य और साथ ही उनके परिवार के सदस्य अलग-अलग कार्यक्रमों में भाग लेते हैं। अलग-अलग कंपनियां हर साल अपने कर्मचारियों के परिवारों को कंपनी के कामकाज के साथ परिचित कराने और उन्हें शेष कर्मचारियों से मेल-जोल बढ़ाने के लिए इस दिवस का आयोजन करती हैं। कई संगठन घर के टुकड़ों और कारों के साथ फोटो बूथ का सेट तैयार करते हैं और उनके साथ तस्वीरें खींचते हैं। कई खेल वयस्कों के साथ-साथ बच्चों के लिए अपने परिवारों के साथ दिन बिताने के लिए आयोजित किए जाते हैं। परिवारों के मनोरंजन के लिए संगीत, नृत्य आदि का लाइव प्रदर्शन किया जाता है। मेहमान अपने परिवार की तस्वीरों को चिपकाने और अपने रिश्तों को साझा करने के लिए कार्यक्रम के अंत में फोटो फ़्रेम भी उपहार में देते हैं। कुछ परिवार इस दिन को एक साथ व्यतीत करके,अच्छे व्यंजन पका कर,फिल्में देखकर और अन्य तरीकों से भी मनाते हैं।
ऐसे ही परिवारों और समुदायों को पारिवारिक जीवन और परिवारों के महत्व को बताने के लिए कनाडा में हर साल अंतर्राष्ट्रीय दिवस का जश्न मनाया जाता है। यह कनाडा के लोगों को उनके प्रियजनों के साथ गुणवत्ता का समय बिताने के लिए एक सुनहरा अवसर प्रदान करता है। अधिकांश लोग अपने पूरे परिवार के साथ कई प्रकार की गतिविधियों में शामिल हो जाते हैं। वे रात्रिभोज के लिए जाते हैं,स्केटिंग करते हैं,पारिवारिक व्यंग्य कसते हैं,फिल्मों के लिए एकसाथ जाते हैं और क्राफ्टिंग में भाग लेते हैं। कुछ परिवार अनाथ बच्चों,अंधे लोगों के लिए स्कूलों,वृद्ध आश्रमों और कैंसर सोसायटी आदि समेत समाज के गैर अनुदानित वर्ग के बारे में अपने बच्चों को शिक्षित करने के साथ अपना दिन बिताते हैं। दक्षिण अफ्रीका,इटली,ऑस्ट्रेलिया में इसे मनाया जाता हैl
भारत में अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस का उत्सव मनाए जाने के लिए सुझाव है कि-इस अवसर पर लोगों को अपना पूरा दिन परिवार के लिए रखना चाहिए। आप परिवार के साथ पारिवारिक खेल खेल सकते हैं, एक-दूसरे के बारे में बात कर सकते हैं कि किस-किसको क्या अच्छा लगता है,छोटी-मोटी मनोरंजक गतिविधियाँ कर सकते हैं या परिवार के साथ एक बड़ी फिल्म देख सकते हैं और एक-दूसरे को बहुत सारे मुस्कुराहट भरे चुटकुले सुना सकते हैं। आप अपने परिवार के सदस्यों को अपने परिवार के चारों ओर घेरे हुए महत्वपूर्ण मुद्दों पर छोटी फिल्में बनाने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं और फिर एक रात एकसाथ बैठा कर उन्हें दिखा सकते हैं। तस्वीरें यादों को हमेशा संजोए रखने का एक शानदार तरीका है। आप परिवार के साथ फ़ोटो खींच सकते हैं या उन फ़ोटो से परिवार की एल्बम भी बना सकते हैं।
निष्कर्ष के रूप में कहा जा सकता है कि,अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि यह आधुनिक काल में लोगों के बीच परिवारों के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करता है। जैसे-जैसे लोग इन दिनों स्वतंत्र और एकान्त जीवनशैली की दिशा की ओर जा रहे हैं,वे धीरे-धीरे समाज की उस अदभुत चीज़ से भी दूर जा रहे हैं,जिसे ‘परिवार’ कहा जाता है। यह दिवस उन लोगों के लिए आदर्श दिन है जो अपने परिवार के साथ समय बिताना चाहते हैं। उस परिवार के साथ जिसमें या तो वे पैदा हुए थे या उन्होंने खुद इसे चुना था या उसका विस्तार किया था। यह दिन उन लोगों के लिए भी आदर्श है जो कई दिनों से परिवारों को प्रभावित कर रहे कई मुद्दों पर जागरूकता फैलाना चाहते हैं।
युवाओं को और युवा दंपत्ति को परिवार का महत्व समझाएं और समझें,कारण इतिहास की पुर्नावृत्ति अवश्य होती हैl जैसा बोयेंगे वैसी फसल पाएंगे,जिन्होंने परिवार नहीं अपनाया,उन्होंने कुछ नहीं कियाl

परिचय- डॉ.अरविन्द जैन का जन्म १४ मार्च १९५१ को हुआ है। वर्तमान में आप होशंगाबाद रोड भोपाल में रहते हैं। मध्यप्रदेश के राजाओं वाले शहर भोपाल निवासी डॉ.जैन की शिक्षा बीएएमएस(स्वर्ण पदक ) एम.ए.एम.एस. है। कार्य क्षेत्र में आप सेवानिवृत्त उप संचालक(आयुर्वेद)हैं। सामाजिक गतिविधियों में शाकाहार परिषद् के वर्ष १९८५ से संस्थापक हैं। साथ ही एनआईएमए और हिंदी भवन,हिंदी साहित्य अकादमी सहित कई संस्थाओं से जुड़े हुए हैं। आपकी लेखन विधा-उपन्यास, स्तम्भ तथा लेख की है। प्रकाशन में आपके खाते में-आनंद,कही अनकही,चार इमली,चौपाल तथा चतुर्भुज आदि हैं। बतौर पुरस्कार लगभग १२ सम्मान-तुलसी साहित्य अकादमी,श्री अम्बिकाप्रसाद दिव्य,वरिष्ठ साहित्कार,उत्कृष्ट चिकित्सक,पूर्वोत्तर साहित्य अकादमी आदि हैं। आपके लेखन का उद्देश्य-अपनी अभिव्यक्ति द्वारा सामाजिक चेतना लाना और आत्म संतुष्टि है।