रचना पर कुल आगंतुक :152

सर्वांग दान कर दूँ

रोहित दाधीच
कोटा(राजस्थान)
*****************************************************
प्राण माँगे तो प्राण दान कर दूँ,
भोग विलास रस जान दान कर दूँ
एक बार कह कर तो देखे माँ भारती-
दधिचि का वंशज हूँ सर्वांग दान कर दूँl

परिचय-रोहित दाधीच राजस्थान राज्य के कोटा शहर के पार्श्वनाथ नगर विस्तार(बोरखेड़ा)में बसे हुए हैं। आपकी जन्मतिथि १८ मार्च १९९३ तथा जन्म स्थान लुहावद(कोटा)है। लुहावद ही आपका स्थाई बसेरा है। आपने अभियांत्रिकी की शिक्षा हासिल की है और पेशे से सिविल अभियंता हैं। श्री दाधीच वीर रस में लेखन करते हैं। आपको सम्मान के रुप में `ऐरावत अंलकरण`,`काव्य भूषण` तथा `काव्य गौरव सम्मान` भी प्राप्त हुआ है। कार्यक्षेत्र में स्वयं निर्माण संस्थान हैl सामाजिक गतिविधि के निमित्त आप एक सेवा संस्था से जुड़े हुए हैंl आपकी लेखनी का उदेश्य मन के भावों को प्रदर्शित करना हैl

Leave a Reply