गीत

Showing 10 of 684 Results

संविधान ने दिया अधिकार

आशा आजाद`कृति`कोरबा (छत्तीसगढ़) ******************************************* मुझे नहीं अधिकार दिया है, एक पुजारी बन पाऊँ।संविधान में प्राप्त मान है, गर्व से जग को बतलाऊँ॥ कहें पुजारी नारी देवी, फिर क्यों मान अधूरा […]

नारी का संविधान में अधिकार

आशा आजाद`कृति`कोरबा (छत्तीसगढ़) ******************************************* हे भारत की नारी सुन लो, संविधान को जानिए।अधिकार जो प्राप्त हमें है, पढ़ उसको पहचानिए॥ बाबा साहेब आम्बेडकर जी, सकल जगत की शान है,महिलाओं का […]

विश्वकप अब तुम ला दो…

दुर्गेश कुमार मेघवाल ‘डी.कुमार ‘अजस्र’बूंदी (राजस्थान)************************************************** लहरा-दो, लहरा-दो,दुनिया में तिरंगा लहरा-दो।ट्वेंटी-ट्वेंटी के विश्वकप को,अबकी बार तो घर ला दो॥ ऑस्ट्रेलिया की मैच पिचों पर,विश्वयुद्ध घमासान लड़ो।सेमी और फाइनल को जीतकर,विजय […]

कर्मशीलता

विजयलक्ष्मी विभा इलाहाबाद(उत्तरप्रदेश)************************************ नाम मिले या गुमनामी,मेरा तो धंधा चलता है।मैं हूँ ऐसी छड़ी कि जिसको,पकड़ के अंधा चलता है॥ क्या कहती है दुनिया सारी,मुझको कुछ परवाह नहींकौन नाम है जिसके […]

नींद नहीं आती

शंकरलाल जांगिड़ ‘शंकर दादाजी’रावतसर(राजस्थान) ****************************************** रातों को नींद नहीं आती सब, खाली-खाली लगता है।पागल-सा देखूं इधर-उधर, इक दिल में दर्द उभरता है॥ क्या प्यार इसी को कहते हैं कोई मुझको समझाए […]

रचा हर जीवन प्रभु ने

हीरा सिंह चाहिल ‘बिल्ले’बिलासपुर (छत्तीसगढ़) ********************************************* रचा हर जीवन को प्रभु ने,सुख-दु:ख जिसमें रहते।सजाते मन के भाव इन्हें,प्रभु जी मन परखा करते॥ हर कर्म किया करता जीवन,जो भाग्य सजाया करते […]

बुद्ध सार कहता है

आशा आजाद`कृति`कोरबा (छत्तीसगढ़) ******************************************* बुद्ध सार कहता है सुन लो, कण-कण में शुभ ज्ञान है।क्यों पूजें हम पत्थर मूरत, पुण्य कर्म ही दान है॥ हमें जरूरत पंचतत्व की, यह जीवन […]

गिरिधारी, कलियुग में आ जाओ

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* हे! गिरिधारी नंदलाल, तुम कलियुग में आ जाओ।जीवन देखो दर्द सना है, पीड़ा सकल हटाओ॥ जीवन तो अभिशाप हो रहा,बढ़ता नित संताप है।अधरम का तो राज […]

दीप पर्व

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* रोशनी से ज़िन्दगी…. दीप दिप-दिप है दमकता, खुश हुआ व्यवहार है।भाव की माला पिरोकर, द्वार पर त्योहार है॥ काल मंगलमय-सुहाना,अल्पनाएँ हैं सजीं।रोशनी देती दुआएँ,सरगमें लय में […]

सावन में बिरह

शंकरलाल जांगिड़ ‘शंकर दादाजी’रावतसर(राजस्थान) ****************************************** बीत गया युग मिल जाओ तो हृदय कमल खिल जाये।युग की प्यासी इन अँखियों को दरश तेरा मिल जाये॥ राह चुनी ऐसी मग चलते, शायद तुम […]