Visitors Views 58

आभार

डॉ. रामबली मिश्र ‘हरिहरपुरी’
वाराणसी(उत्तरप्रदेश)
******************************************

भाव प्रकट कर,
जीवित हो कर।
सबका बन करll

कृतज्ञ बनोगे,
दिल में होगे।
साथ चलोगेll

उपकृत बनना,
सदा चहकना।
संग निबहनाll

भूल न जाना,
भान कराना।
स्मरण दिलानाll

हाव-भाव से,
चाल-चलन से।
पावन मन सेll

बन आभारी,
उपकृतकारी।
शिष्टाचारीll