कुल पृष्ठ दर्शन : 234

You are currently viewing नया वर्ष

नया वर्ष

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
********************************************************

मन में सपने हैं सजे,
खुशियों के दिन आय।
सुन्दर सुखद सुहावनी,
शीतल शीत सुहाय॥
शीतल शीत सुहाय,
खुशी मन में है छाई।
हिय में उठे तरंग,
आज मौसम सुखदाई॥
कहे ‘विनायक राज’,
मनाओ पिकनिक वन में।
नया वर्ष है आज,
सजाओ सपने मन में॥

Leave a Reply