रचना पर कुल आगंतुक :153

अभिनंदन…

मोहित जागेटिया
भीलवाड़ा(राजस्थान)
**************************************************************************

सात फेरों का हमारा बंधन होगा,
जन्म जन्मों का हमारा सबंध होगा।

चाँद-सितारों के सामने मिलन होगा,
आने वाले हर जन का अभिनंदन होगा।

उस रब ने बनाई ये जोड़ी हमारी,
आज दुनिया बनेगी साक्षी ये सारी।

शादी मंडप में सजेंगे चाँद-सितारे,
आशीष देंगे बड़े जो सभी हमारे।

सबके आशीष से महक जाएगा गुलशन,
खुशबू से खिल जाएगा ये सारा जीवन।

बड़ा ख़ूबसूरत होगा अपना मिलन,
इस मिलन के साक्षी बनेंगे धरा और गगन।

स्नहे और प्यार से भेज रहा हूँ निमंत्रण,
मेरी शादी में आपका तहे-दिल से अभिनंदन॥

परिचय–मोहित जागेटिया का जन्म ६ अक्तूबर १९९१ में ,सिदडियास में हुआ हैl वर्तमान में आपका बसेरा गांव सिडियास (जिला भीलवाड़ा, राजस्थान) हैl यही स्थाई पता भी है। स्नातक(कला)तक शिक्षित होकर व्यवसायी का कार्यक्षेत्र है। इनकी लेखन विधा-कविता,दोहे,मुक्तक है। इनकी रचनाओं का प्रकाशन-राष्ट्रीय पत्र पत्रिकाओं में जारी है। एक प्रतियोगिता में सांत्वना सम्मान-पत्र मिला है। मोहित जागेटिया ब्लॉग पर भी लिखते हैं। आपकी लेखनी का उद्देश्य-समाज की विसंगतियों को बताना और मिटाना है। रुचि-कविता लिखना है।

Leave a Reply