Tag: hansoud

104 views

मध्यान्ह भोजन

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ********************************************************************* गुरू को न तंग करें, शांति नहीं भंग करें। व्यर्थ नहीं जंग...

36 views

मर्यादा

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ********************************************************************* जाने कैसे लग गया,हम शिक्षक को रोग। आपस में ही लड़ रहे,हँसते...

36 views

मनमानी

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ********************************************************************* मनमानी करते सभी,दिखे कहाँ अब शर्म। क्रोध नहीं काबू रहे,बात-बात पर गर्म।...

79 views

 चाँद

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ********************************************************************* चाँद है अब दूर कैसे,सोचते भगवान हैं। मुश्किल तो है नहीं यह,राह...

44 views

अंतर्मन

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ********************************************************************* (शिल्प-८,८,८,७) अपने बने दुर्जन,रोए तब अंतर्मन। भूले उपकार सारे,आँखें भी दिखाते हैं।...

12 views

अच्छे बनो

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ********************************************************************* प्यारे बच्चे अच्छे बनो,नहीं कभी ताने सुनो। समय पर सारे काम,करना है...

70 views

चूहा बिल्ली

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ******************************************** मेरे घर आती बिल्ली,कहीं छिप जाती बिल्ली। पड़े जो नजर कभी,चूहा घबराता...

20 views

आँख में पड़े न धूल

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ******************************************** आँख और कान सदा,खोल के रखोगे प्यारे। जीवन में कोई तुझे,ठग नहीं...

38 views

अपनापन

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ******************************************** अपनापन व्यवहार में,अगर कहीं दिख जाय। फिर तो मानो स्वर्ग ही,इस धरती...

36 views

रसोइयों की पीड़ा

बिनोद कुमार महतो ‘हंसौड़ा’ दरभंगा(बिहार) ******************************************** रसोइयों की लाचारी, अति कम है दिहाड़ी। फिर भी विद्यालय में, भोजन...