रचना पर कुल आगंतुक :120

You are currently viewing कन्या पूजन श्रेष्ठतर

कन्या पूजन श्रेष्ठतर

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’
बेंगलुरु (कर्नाटक)

*************************************

दुराचार या भ्रूण पतन जग,
नीच सोच मनरोग समझ लो
कन्या पूजन सदा श्रेष्ठतर,
श्रद्धा ममता योग समझ लो।

शक्ति भक्ति सह प्रीति सदय,
करुणा मर्म अपार समझ लो
नवदुर्गे जगदम्बे जननी,
कन्या बन अवतार समझ लो।

महाशक्ति निर्भय सबल जग,
सारस्वत कुलगान समझ लो
लाज नेह सरला सहजा हिय,
वधू मातु वरदान समझ लो।

रिद्धि-सिद्धि जननी तनया वह,
मर्यादित उत्कर्ष समझ लो
शिवा रमा सीता गौरी शुभ,
शान्ति सरस दे हर्ष समझ लो।

अधम प्रकृति दुष्कर्म दनुज रत,
कुछ कुत्सित संसार समझ लो
पर नारी सम्मान हृदय जग,
कन्या पूज्य आधार समझ लो।

करें सदा नवरात्र अष्टमी,
कन्या पूजन सुखद समझ लो
आराधन नवरूप शक्ति माँ,
बने मनुज निष्पाप समझ लो।

कर ‘निकुंज’ दुर्गा आराधन,
महागौरी अष्टमी समझो।
कर श्रृंगार कन्या विधि पूजन,
पुण्य कुमारी भोजन समझो॥

परिचय-डॉ.राम कुमार झा का साहित्यिक उपनाम ‘निकुंज’ है। १४ जुलाई १९६६ को दरभंगा में जन्मे डॉ. झा का वर्तमान निवास बेंगलुरु (कर्नाटक)में,जबकि स्थाई पता-दिल्ली स्थित एन.सी.आर.(गाज़ियाबाद)है। हिन्दी,संस्कृत,अंग्रेजी,मैथिली,बंगला, नेपाली,असमिया,भोजपुरी एवं डोगरी आदि भाषाओं का ज्ञान रखने वाले श्री झा का संबंध शहर लोनी(गाजि़याबाद उत्तर प्रदेश)से है। शिक्षा एम.ए.(हिन्दी, संस्कृत,इतिहास),बी.एड.,एल.एल.बी., पीएच-डी. और जे.आर.एफ. है। आपका कार्यक्षेत्र-वरिष्ठ अध्यापक (मल्लेश्वरम्,बेंगलूरु) का है। सामाजिक गतिविधि के अंतर्गत आप हिंंदी भाषा के प्रसार-प्रचार में ५० से अधिक राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय साहित्यिक सामाजिक सांस्कृतिक संस्थाओं से जुड़कर सक्रिय हैं। लेखन विधा-मुक्तक,छन्दबद्ध काव्य,कथा,गीत,लेख ,ग़ज़ल और समालोचना है। प्रकाशन में डॉ.झा के खाते में काव्य संग्रह,दोहा मुक्तावली,कराहती संवेदनाएँ(शीघ्र ही)प्रस्तावित हैं,तो संस्कृत में महाभारते अंतर्राष्ट्रीय-सम्बन्धः कूटनीतिश्च(समालोचनात्मक ग्रन्थ) एवं सूक्ति-नवनीतम् भी आने वाली है। विभिन्न अखबारों में भी आपकी रचनाएँ प्रकाशित हैं। विशेष उपलब्धि-साहित्यिक संस्था का व्यवस्थापक सदस्य,मानद कवि से अलंकृत और एक संस्था का पूर्व महासचिव होना है। इनकी लेखनी का उद्देश्य-हिन्दी साहित्य का विशेषकर अहिन्दी भाषा भाषियों में लेखन माध्यम से प्रचार-प्रसार सह सेवा करना है। पसंदीदा हिन्दी लेखक-महाप्राण सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ है। प्रेरणा पुंज- वैयाकरण झा(सह कवि स्व.पं. शिवशंकर झा)और डॉ.भगवतीचरण मिश्र है। आपकी विशेषज्ञता दोहा लेखन,मुक्तक काव्य और समालोचन सह रंगकर्मी की है। देश और हिन्दी भाषा के प्रति आपके विचार(दोहा)-
स्वभाषा सम्मान बढ़े,देश-भक्ति अभिमान।
जिसने दी है जिंदगी,बढ़ा शान दूँ जान॥ 
ऋण चुका मैं धन्य बनूँ,जो दी भाषा ज्ञान।
हिन्दी मेरी रूह है,जो भारत पहचान॥

Leave a Reply