Visitors Views 40

किताब जिंदगी की

वन्दना शर्मा
अजमेर (राजस्थान)

***********************************************************************

जिंदगी की इस किताब को
पढ़ रही हूँ नित्य मैं,
पर न अक्षर एक भी
मेरी समझ में आ रहा,
खो गयी पन्नों में मैं तो
ढूँढ न पायी कभीl
दे दी कितनी ही परीक्षा
आज तक अनुत्तीर्ण हूँ,
न मिला कोई गुरु जो
सीख इसकी दे मुझे,
समझ भी आये मुझे और
हो सकूँ उत्तीर्ण भीl
पन्ने-पन्ने पर शब्दों का
कितना गहरा जाल है,
मैं सफरी-सी फँसी हुई हूँ
हाल बड़ा बेहाल है,
आँख खोज कर थकी हैं मेरी
राह अभी तक मिली नहीं,
कैसे समझूँ जीवन लेखा
इसी सोच में खड़ी हूँ मैंl
बाल पक गये छायी सफेदी
पर मति की कुंठा नहीं गयी,
जीवन की सीधी परिभाषा
कोई तो समझाओ नll

परिचय-वंदना शर्मा की जन्म तारीख १ मई १९८६ और जन्म स्थान-गंडाला(बहरोड़,अलवर)हैl वर्तमान में आप पाली में रहती हैंl स्थाई पता-अजमेर का हैl राजस्थान के अजमेर से सम्बन्ध रखने वाली वंदना शर्मा की शिक्षा-हिंदी में स्नातकोत्तर और बी.एड. हैl आपका कार्यक्षेत्र-नौकरी के लिए प्रयासरत होना हैl लेखन विधा-मुक्त छंद कविता हैl इनकी लेखनी का उद्देश्य- स्वान्तःसुखाय तथा लोकहित हैl जीवन में प्रेरणा पुंज-गुरुजी हैंl वंदना जी की रुचि-लेखन एवं अध्यापन में है|