कुल पृष्ठ दर्शन : 257

You are currently viewing नैतिक पथ पर चलना सिखाएं

नैतिक पथ पर चलना सिखाएं

ताराचन्द वर्मा ‘डाबला’
अलवर(राजस्थान)
***************************************

आओ हम सब मिलकर,
एक सभ्य समाज बनाएं
विधा का दीपक जलाकर,
घर-घर अलख जगाएं।

विधा एक गहरा सागर है,
मिलकर डुबकी खूब लगाएं
दूर होते हैं सारे अवगुण,
ज्ञान में कमी कभी न आए।

कर्त्तव्य बोध सबको कराती,
नैतिक पथ पर चलना सिखाएं
खर्च कभी नहीं होती विधा,
भर-भर अंजली खूब लुटाएं।

विधा से ही महान बनोगे,
कोई भी तुमको छल न पाए
ज्ञान का भण्डार है जग में,
डर तुमको किसका सताए।

सुख-शांति सब कुछ मिलता है,
विधा सारे भ्रम मिटाएं।
जीवन की अनमोल धरोहर,
सबको प्रेम से जीना सिखाएं॥

परिचय- ताराचंद वर्मा का निवास अलवर (राजस्थान) में है। साहित्यिक क्षेत्र में ‘डाबला’ उपनाम से प्रसिद्ध श्री वर्मा पेशे से शिक्षक हैं। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में कहानी,कविताएं एवं आलेख प्रकाशित हो चुके हैं। आप सतत लेखन में सक्रिय हैं।

Leave a Reply