Visitors Views 10

भू तू बड़ी महान

नवीन कुमार भट्ट नीर
मझगवाँ(मध्यप्रदेश) 

*************************************************************

विश्व धरा दिवस स्पर्धा विशेष………

पावन धरती मात को,है वंदन बारम्बार।
गौरव की गाथा लिखी,गूँजे जय जयकारll

धरती माँ के गोद से,निकली सीता मात।
तेरी कथा अटूट है,दिन चाहे हो रातll

हरियाली साड़ी पहन,धरती गाती गीत।
नदियाँ झरने कूप को,यही दिलाती जीतll

ममता का सागर भरा,कभी न करती क्रोध।
गलती जो इसका करे,लेती नहीं विरोधll

भू भवसागर तारणी,तू है कृपा निधान।
अमिट रूप रचना रची,यैसा कहे विधानll

तेरे आँचल में पले,लोग करें जयगान।
हाथ जोड़ वंदन किये,साक्षात भगवानll

हे धरती तेरी कृपा,आज यहां खुशहाल।
बेच-बेच के कोक को,कितने मालामालll

तेरे आँगन में पले,सारा आज जहान।
हम सब तेरे पूत हैं,भू तू बड़ी महानll

नमन करूँ हे धारणी,तू ही मात सहाय।
अगर गई तू रूठ तो,लेगा कौन बचायll

पेड़ लगाकर साथियों,मुझको दो उपहार।
भू माता सबसे कहे,यही मेरा त्योहारll

परिचय-नवीन कुमार भट्ट का उपनाम `नीर` हैl इनकी जन्मतिथि १८ मई १९९३ हैl वर्तमान में आपका निवास मध्यप्रदेश ग्राम मझगवाँ पो.सरसवाही (जिला-उमरिया) में हैl आपकी लेखन विधा-कविता हैl आप फिलहाल डी.एल-एड की तैयारी (आईटीआई) कर रहे हैंl कुछ कविताओं का प्रकाशन साप्ताहिक सहित दैनिक अखबारों में भी हुआ हैl श्री भट्ट को भावश्री,सत्यश्री सम्मान (वर्धा)तथा नरहरि सम्मान (रायबरेली) मिला हैl