कुल पृष्ठ दर्शन : 540

You are currently viewing हिंदीभाषा.कॉम को मिला हिंदी सेवार्थ अखिल भारतीय पुरस्कार

हिंदीभाषा.कॉम को मिला हिंदी सेवार्थ अखिल भारतीय पुरस्कार

साहित्य अकादमी से सम्पादक-संस्थापक अजय जैन ‘विकल्प’ वर्ष २०१९ के लिए होंगे सम्मानित, प्रादेशिक १५ कृति सम्मान-पुरस्कार भी घोषित

इंदौर (मप्र)।

साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद्, मध्यप्रदेश शासन संस्कृति विभाग (भोपाल) द्वारा अखिल भारतीय १३ व प्रादेशिक १५ कृति पुरस्कारों (वर्ष २०१९) की घोषणा कर दी गई है। अकादमी ने हिंदी सेवार्थ अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार (फेसबुक-ब्लाग-नेट)हेतु हिंदीभाषा डॉट कॉम (अजय जैन ‘विकल्प’, इंदौर) को चयनित किया है।
हिंदीभाषा.कॉम परिवार की ओर से सह-सम्पादक श्रीमती अर्चना जैन (दिल्ली) ने इस चयन एवं सम्मान के प्रति अकादमी के मंडल सहित निदेशक का आभार व्यक्त किया है। पोर्टल के मार्गदर्शक डॉ. एम.एल. गुप्ता ‘आदित्य’, सरंक्षक डॉ. अशोक जी (बिहार), मंच संयोजक प्रो.डॉ. सोना सिंह एवं प्रचार प्रमुख श्रीमती ममता तिवारी ‘ममता’ (छग) ने इस पुरस्कार के लिए सभी रचनाशिल्पी को हार्दिक बधाई दी है।
सम्पादक श्री जैन ने माँ सरस्वती के आशीष से प्राप्त इस पुरस्कार को मातृभाषा हिंदी की सेवा का, मंच से जुड़े हर रचनाकार का, निरन्तर सक्रियता का, विविध गतिविधि का, सतत स्पर्धा का एवं निष्पक्ष संचालन का सम्मान बताया है, साथ ही दल में शामिल तकनीकी सहयोगी चेतन बैंडाले और पोर्टल विकासकर्ता भीम मैंडेड का आभार व्यक्त किया है।
बता दें कि, २०१८ से प्रारम्भ हुए इस हिंदी मंच को पहले १ राष्ट्रीय कीर्तिमान एवं ६ अंतर्राष्ट्रीय-राष्ट्रीय सम्मान मिल चुके हैं। हिंदी की लोकप्रियता के लिए कार्यरत इस पोर्टल को १.५१ करोड़ पाठकों की शुभकामनाएँ एवं का स्नेह भी प्राप्त है।
इस उपलब्धि पर सम्पादक और पोर्टल को साहित्यकार मुकेश तिवारी, लक्ष्मीकांत पंडित, विजय सिंह चौहान, डॉ. पुरुषोत्तम दुबे, डॉ. पुनीत दुबे, पत्रकार साथी रोहित त्रिवेदी, पूनम शर्मा, डॉ. रफी मो. शेख एवं अन्य शुभचिंतकों ने भी शुभकामनाएँ व्यक्त की हैं।

यह भी हुए चयनित

अकादमी के निदेशक और प्रसिद्ध साहित्यकार डाॅ. विकास दवे ने बताया कि, अभा प्रति पुरस्कार १ लाख एवं प्रादेशिक प्रति पुरस्कार ५१ हजार रुपए के साथ शाॅल, श्रीफल, स्मृति चिह्न और प्रशस्ति के साथ रचनाकारों को अलंकृत किया जाता है। अखिल भारतीय के अंतर्गत पं. माखनलाल चतुर्वेदी (निबंध) डाॅ. मनोज पाण्डेय (नागपुर) की कृति ‘आलोचना के नये परिप्रेक्ष्य’, गजानन माधव मुक्तिबोध (कहानी) सच्चिदानंद जोशी (दिल्ली) की कृति ‘पलभर की पहचान’, राजा वीरसिंह देव (उपन्यास) प्रो. मनीषा शर्मा (अमरकंटक) की कृति ‘ये इश्क…’ सहित आचार्य रामचन्द्र शुक्ल (आलोचना) डाॅ. कविता भट्ट (उत्तराखण्ड) की कृति ‘भारतीय साहित्य में जीवन मूल्य’, पं. भवानी प्रसाद मिश्र (गीत एवं हिन्दी ग़ज़ल) डाॅ. आर.पी. सारस्वत (सहारनपुर) की कृति ‘तुम बिन’ एवं अखिल भारतीय नारद मुनि (फेसबुक-ब्लाग-नेट) के लिए अजय जैन ‘विकल्प’ (इंदौर, मप्र) को उनके पृष्ठ को दिया गया है। ऐसे ही प्रादेशिक पुरस्कार में वृन्दावन लाल वर्मा (उपन्यास) डाॅ. अश्विनी कुमार दुबे (इंदौर) की कृति ‘किसी शहर में’, सुभद्रा कुमारी चैहान (कहानी) डाॅ. गरिमा संजय दुबे (इदौर) की कृति ‘दो ध्रुवों के बीच की आस’, आचार्य नंददुलारे वाजपेयी (आलोचना) श्रीमती बूला कार (इंदौर) की कृति ‘साहित्य मीमांसा’, एवं राजेन्द्र अनुरागी (डायरी) राजेश अवस्थी ‘लावा’ (ग्वालियर) की कृति ‘अतीत के शब्द बिम्ब’ और प्रादेशिक शरद जोशी (व्यंग्य) सम्मान मीरा जैन (उज्जैन) की कृति ‘हेल्थ हादसा’ को दिया गया है।

Leave a Reply