कान्हा कब होगा तेरा आना…?

आचार्य गोपाल जी ‘आजाद अकेला बरबीघा वाले’शेखपुरा(बिहार)********************************************* मधुबन में मुरली मीठी बजाना,यूँ गाय चराने नित दिन जाना।मित्र-मंडली में नित इठलाना,कान्हा अब कब होगा तेरा आना ? गोकुल-गलियों में‌ धूम मचाना,बाल…

0 Comments

बन विधाता बैठा हर आदमी

आचार्य गोपाल जी ‘आजाद अकेला बरबीघा वाले’शेखपुरा(बिहार)********************************************* 'आजाद' आज ऐसा क्यों हो गया है आदमी,दूर अपनों से भला क्यों हो गया है आदमी। चाहतें अपनी अपना बनाने के खातिर यहां,अपनों…

0 Comments

नेक बनें हम

आचार्य गोपाल जी ‘आजाद अकेला बरबीघा वाले’शेखपुरा(बिहार)********************************************* अगर चाह है नेक बनें हम,तुमको तिल-तिल गलना होगाजग का अंधियारा तभी मिटेगा,खुद बन दीप-सा जलना होगा। विश्व बंधुत्व की बहेगी बयार,होंगे विद्व…

0 Comments

नियमित योग से काया निरोग

आचार्य गोपाल जी ‘आजाद अकेला बरबीघा वाले’शेखपुरा(बिहार)********************************************* मानव मन-से भज रहा,आज योग का नाम,प्रात:-काल करना रहा,योग सभी का काम। सुंदर सुकोमल शरीर हो,मन निर्मल गंग समान,सदा योग का काम करें,इसके…

0 Comments

अंधेरा अब मिटने वाला है

आचार्य गोपाल जी ‘आजाद अकेला बरबीघा वाले’शेखपुरा(बिहार)********************************************* कष्टों का अविराम अंधेरा,देखो अब मिटने वाला है।बरखा की बूंदों के संग घन,नूतन खुशियां लाने वाला है। पीड़ा अब आँसू बनकर बहेगी,ये सहर…

0 Comments

महावीर युग फिर से आए

आचार्य डाॅ. लोकेशमुनि नई दिल्ली(भारत) ************************************************************************* महावीर जयन्ती १७ अप्रैल विशेष महावीर जयन्ती सत्संकल्पों को जागृत करने का पर्व है और सबसे बड़ा संकल्प है मनुष्य स्वयं को बदलने के…

0 Comments