साहित्यकार यशपाल ‘निर्मल’ को मिलेगा मुंशी प्रेमचंद साहित्य सम्मान-२०१८

जम्मू।
डोगरी एवं हिंदी भाषा के युवा बाल साहित्यकार,  लघु कथाकार और आलोचक यशपाल निर्मल को उनके साहित्यिक योगदान के लिए ओस्सान आनंदम् सोसायटी, (नागपुर) की ओर से मुंशी प्रेमचंद साहित्यिक सम्मान के लिए चयनित किया गया है। यशपाल शर्मा को शीघ्र ही सम्मानित किया जाएगा।
 जम्मू-कश्मीर के छंब ज्यौड़ियां के गांव गढ़ी बिशना में जन्मे यशपाल शर्मा ने जम्मू विश्वविद्यालय से डोगरी भाषा में स्नातकोतर एवं एम.फिल. की उपाधियां प्राप्त की हैं।  आप कई भाषाओं में अनुवाद कार्य कर रहे हैं। समाचार पत्रों के साथ बतौर संवाददाता कार्य करने के बाद आपने लेखन की शुरुआत वर्ष १९९४ में की। अब तक अनुवाद कार्य,साहित्य सृजन ,समाजसेवा,पत्रकारिता और सांस्कृतिक क्षेत्रों  में अतुलनीय योगदान हेतु आपको कई मान-सम्मान एवं पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं। वर्तमान में आप  सहायक संपादक के रुप में डोगरी,जम्मू कश्मीर कला, संस्कृति एवं भाषा अकादमी में कार्यरत हैं। सम्मान की इस उपलब्धि पर आपको मित्रों,स्नेहीजनों और हिन्दी भाषा डॉट कॉम परिवार ने भी बधाई देते हुए ख़ुशी जताई है।

Hits: 42

आपकी प्रतिक्रिया दें.