कुल पृष्ठ दर्शन : 197

You are currently viewing आपस में हम लड़ें नहीं

आपस में हम लड़ें नहीं

गुरुदीन वर्मा ‘आज़ाद’
बारां (राजस्थान)
********************************

लड़ें नहीं,हम लड़ें नहीं,आपस में हम लड़ें नहीं,
आपस में हम भाई हैं,आपस में हम लड़ें नहीं।

खुद को खुदा हम मानकर,ना हम किसी की करें बुराई,
कसमें-वादे अपने निभाएँ,ना करें कभी करें बेवफ़ाई।
इज्ज़त सबकी हम करें,चाहे मजहब कोई भी हो,
मानें कभी अपनी भूल भी,अपनी जिद पर लड़ें
नहीं॥

एक जमीं पर पैदा हुए हम,एक है अपना आसमां,
बहता है एक ही लहू हम में,अपना हो एक ही अरमां।
बांटें नहीं हम धरती को,सुख-दुःख अपने हम बांटें,
करने में किसी की मदद हम,मुँह कभी मोड़े नहीं॥

लुट जायेगा अपना वतन,आपस में यूँ लड़ने से,
नहीं रहेगा आबाद चमन बलवे-झगड़े यूँ करने से।
तोड़ें नहीं हम एकता अपनी,भाईचारा अपना कभी,
प्रेम के अपने बंधन को हम,कभी यारों तोड़े नहीं।
लड़ें नहीं,हम लड़ें नहीं,आपस में हम लड़ें नहीं॥

परिचय- गुरुदीन वर्मा का उपनाम जी आज़ाद है। सरकारी शिक्षक श्री वर्मा राजस्थान के सिरोही जिले में पिण्डवाड़ा स्थित विद्यालय में पदस्थ हैं। स्थाई पता जिला-बारां (राजस्थान) है। आपकी शिक्षा स्नातक(बीए)व प्रशिक्षण (एसटीसी) है।इनकी रूचि शिक्षण,लेखन,संगीत व भ्रमण में है। साहित्यिक गतिविधि में सक्रिय जी आजाद अनेक साहित्य पटल पर ऑनलाइन काव्य पाठ कर चुके हैं तो अनेक पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित हुई हैं। प्रकाशित पुस्तक ‘मेरी मुहब्बत’ साहित्य खाते में है तो कुछ पुस्तक प्रकाशन में हैं।

Leave a Reply