Visitors Views 45

घर-घर तिरंगा लहराएं हम

डॉ. श्राबनी चक्रवर्ती
बिलासपुर (छतीसगढ़)
*************************************************

अपना सम्मान तिरंगा….

एक अरसा बीत गया मेरे वतन को,
उस अंधियारे कोहरे से निकल कर
आजादी की पहली किरण हासिल करने में,
लाखों लोग गर्दिश में तबाह हुए, न जाने कितने बिछड़ गए।

कितने जवान शहीद हुए, कोख कितनों की हुई सूनी,
हँसते-हँसते देश पर निछावर हुए, कितने युवा हुए छलनी
स्वतंत्रता संग्राम में लाखों स्त्री और पुरुष ने बलिदान दिया,

तब जाकर कहीं मिली आजादी देश को उन्नीस सौ सैतालीस में।

आओ नमन करें उन सबको जिनके बलिदान के,
बदले में मिली हमको ये अनमोल आज़ादी
ऐ वतन आबाद रहे तू, ये प्रार्थना हर पल करें सब,
लहरा दो तिरंगा लहरा दो, हर एक घर में गाँव और शहर।

तिलक करो इस माटी का जिसने हमें,

स्वतंत्र भारत में गर्व से सिर उठा कर

जीने का सौभाग्य दिया,
गौरवान्वित हुए देश की संस्कृति और विजय विकास पथ पर,
जन गण मन ने मिलकर रचा सौहार्द और शांति का आधार
शान से तिरंगा लहराया पिछत्तर वर्षों से हम सबने बारम्बार।

आओ सब साथ मिलकर याद रखें एक जरुरी बात,
कायम रख कर प्रेम, सद्भावना, भाईचारा और शांति के साथ।
देश के हर कोने में आज़ादी का अमृत महोत्सव मनाएं हम,
घर-घर तिरंगा लहराएं आन-बान और शान से हम॥

परिचय- शासकीय कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय में प्राध्यापक (अंग्रेजी) के रूप में कार्यरत डॉ. श्राबनी चक्रवर्ती वर्तमान में छतीसगढ़ राज्य के बिलासपुर में निवासरत हैं। आपने प्रारंभिक शिक्षा बिलासपुर एवं माध्यमिक शिक्षा भोपाल से प्राप्त की है। भोपाल से ही स्नातक और रायपुर से स्नातकोत्तर करके गुरु घासीदास विश्वविद्यालय (बिलासपुर) से पीएच-डी. की उपाधि पाई है। अंग्रेजी साहित्य में लिखने वाले भारतीय लेखकों पर डाॅ. चक्रवर्ती ने विशेष रूप से शोध पत्र लिखे व अध्ययन किया है। २०१५ से अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय (बिलासपुर) में अनुसंधान पर्यवेक्षक के रूप में कार्यरत हैं। ४ शोधकर्ता इनके मार्गदर्शन में कार्य कर रहे हैं। करीब ३४ वर्ष से शिक्षा कार्य से जुडी डॉ. चक्रवर्ती के शोध-पत्र (अनेक विषय) एवं लेख अंतर्राष्ट्रीय-राष्ट्रीय पत्रिकाओं और पुस्तकों में प्रकाशित हुए हैं। आपकी रुचि का क्षेत्र-हिंदी, अंग्रेजी और बांग्ला में कविता लेखन, पाठ, लघु कहानी लेखन, मूल उद्धरण लिखना, कहानी सुनाना है। विविध कलाओं में पारंगत डॉ. चक्रवर्ती शैक्षणिक गतिविधियों के लिए कई संस्थाओं में सक्रिय सदस्य हैं तो सामाजिक गतिविधियों के लिए रोटरी इंटरनेशनल आदि में सक्रिय सदस्य हैं।