Visitors Views 69

नियमित योग से काया निरोग

आचार्य गोपाल जी ‘आजाद अकेला बरबीघा वाले’
शेखपुरा(बिहार)
*********************************************

मानव मन-से भज रहा,आज योग का नाम,
प्रात:-काल करना रहा,योग सभी का काम।

सुंदर सुकोमल शरीर हो,मन निर्मल गंग समान,
सदा योग का काम करें,इसके लाभ को जान।

नियमित योग से करो सदा,काया को निरोग,
लेना योग गुरु का तुम,उचित सदा सहयोग।

स्वस्थ तन-मन से सदा,होता सभी का काम,
तन-मन सारा शुद्ध है,करना योग का काम।

ऋषि पतंजलि ने योग का,दिया नया आयाम,
फेफड़ा शुद्ध करता सदा,नियमित प्राणायाम।

‘आजाद’ करे सब रोगों से,अकेला ही एक योग,
इक्कीस जून योग दिवस पर,योग कर रहे लोग॥