कुल पृष्ठ दर्शन : 517

You are currently viewing रहा नहीं भरोसा

रहा नहीं भरोसा

अजय जैन ‘विकल्प’
इंदौर(मध्यप्रदेश)
******************************************

छोड़ देता है
घर को बेटा आज़
पत्नी के लिए।

बेचारा बाप
जीवन की गठरी
उठाए कैसे ?

माँ बस रोती
काश! मेरी औलाद
ऐसी न होती।

सुखी न दिखा
पाला जिसे खून से
उसी का दुःख।

रिश्ते बेगाने
रहा नहीं भरोसा
कोई न माने।

मन है पुष्प
मांगते हैं बंधन
खुशी की धूप।

खुशी चाहिए
तोड़ हर दीवार
साथ आइए।

हो यूँ जीवन
सागर जैसा बड़ा
रिसे न मन।

जीवन नौका
छोड़ना प्रेम घाट
मिला है मौका।

काटो न शाखाएं
मुश्किल में है पेड़
लेना सम्भाल॥