कुल पृष्ठ दर्शन : 240

You are currently viewing सत्य अहिंसा मूर्ति

सत्य अहिंसा मूर्ति

अजय जैन ‘विकल्प’
इंदौर(मध्यप्रदेश)
******************************************

नाम सिद्धार्थ,
सत्य अहिंसा मूर्ति-
देखा सत्यार्थ।

अहिंसा वीर
आ जाओ महावीर-
सदैव धीर।

जन्मे वैशाली
जटिल साधना से
पा ली मंजिल।

ध्यान साधना
सहज महावीर
सत्य प्रार्थना।

सिखाया तप
नश्वर तन-मन
समझो मौन।

है अवतार,
तज दिया शासन
हैं महावीर।

धीर विनय,
पथ दिखा जग को-
वीर तनय।

गुणों की ख़ान,
तीर्थंकर चौबीस-
रहे महान।

फैलाया धर्म,
अपना महाव्रत-
सिखाया धर्म।

सबको आस,
अल्पायु राज त्याग-
पथ संन्यास॥

Leave a Reply