दादा-पोते का प्यार

डोली शाहहैलाकंदी (असम)************************************** मनाली जाकर हनीमून मनाने के बाद घर आकर रेनू बहुत खुश थी, पर अभी मेहंदी के रंग के कुछ महीने ही हुए थे कि, एक तरफ सासू…

0 Comments

काश्वी

ज्योति नरेन्द्र शास्त्रीअलवर (राजस्थान)************************************************* आज राम अपना सब-कुछ गंवा चुका था। ऑफिस, खेत यहाँ तक कि, घर तक को भी बेचने की नौबत आ चुकी थी। अपने हाथों को माथे…

0 Comments

हमारी बेटी…सुंदरी

डोली शाहहैलाकंदी (असम)************************************** गोरा चट्टा, छरहरा बदन, टमाटर जैसे गाल, पतली- पतली टांगे, फूंक मारो तो हवा में उड़ जाए। इतराती- इठलाती छोटे-से चेहरे की मासूमियत देख एक स्पर्श से…

0 Comments

सच्चा मित्र

प्रो. लक्ष्मी यादवमुम्बई (महाराष्ट्र)**************************************** राघव अपनी कक्षा का एक होनहार विद्यार्थी था, सभी शिक्षक उसकी तारीफ़ करते न थकते। सभी कार्यों में निपुण था, लेकिन कहते हैं न कि, ईश्वर…

0 Comments

दाग

डॉ. वंदना मिश्र ‘मोहिनी’इन्दौर(मध्यप्रदेश)************************************ बैग में रखा मोबाइल जोर-जोर से बज रहा था…वनिता का ध्यान उस ओर गया, उसका छोटा-सा एक्सीडेंट हो गया था, जिसमें उसके चेहरे पर चोट लगने…

0 Comments

होली आई, खुशियाँ लाई

डोली शाहहैलाकंदी (असम)************************************** चिड़ियों का कलरव शुरू ही हुआ था, निशा लुप्त होने की कगार पर खड़ी थी। कुछ देर बाद सूरज भी अपना पैर पसार ही लेता। जीवन संगीत…

0 Comments

बिखरे मोती

डोली शाहहैलाकंदी (असम)************************************** बनी-बनाई चीजों को तोड़ना और फिर जोड़ के देखना, छोटे भाई के खिलौने को लेकर दूर भाग जाना, कभी स्विच बोर्ड पर हाथ फेरना, तो कभी गैस…

0 Comments

पश्चाताप

प्रो. लक्ष्मी यादवमुम्बई (महाराष्ट्र)**************************************** वेदिका अपने परिवार के साथ बहुत खुश थी। उसके परिवार में १ बेटा और १ बेटी थी। पति अनुज बिज़नेसमैन थे, तो वेदिक़ा भी सरकारी बैंक…

0 Comments

प्रेम पगा उपहार

डोली शाहहैलाकंदी (असम)************************************** एक सप्ताह बाद 'वैलेंटाइन-डे' है। नरेश मन ही मन सोच रहा था कि, इस साल पत्नी नेहा को क्या तोहफा दे, जिससे वह खुश हो जाए। इसी…

0 Comments

अधूरा सपना

प्रो. लक्ष्मी यादवमुम्बई (महाराष्ट्र)**************************************** मधु आज बहुत ख़ुश थी, क्योंकि उसके कॉलेज में फ़ेयरवेल पार्टी थी। वह खुश इसलिए थी, क्यूँकि उसे नए कपड़े पहनने को मिलेंगे और अच्छा खाना…

0 Comments