रचना पर कुल आगंतुक :135

You are currently viewing राज

राज

रौशनी अरोड़ा ‘रश्मि’ 

दिल्ली

******************************************************************************

हुई थी मेरी जिससे,
पाँच साल पहले दोस्ती
है नाम उसका ‘राज।’
याद बहुत उसकी,
आ रही है मुझे आज॥

हर पल हर घड़ी रहता,
है वो तो नित तत्पर
करने को सबके काज।
है वो मेरा इस जहाँ में,
दोस्त सबसे ही प्यारा।
इसलिए सजा लिया मैंने,
सर पे अपने उसकी
दोस्ती का ही ताज॥

बन बैठा है वो तो मेरे,
इस दिल का सरताज।
मेरे दिल से निकले इक,
इक गीत का है वही साज॥

बता दिया है मैंने ये,
देखो सबको आज।
तुम हो मेरे सबसे,
अच्छे दोस्त राज॥

परिचय-रौशनी अरोड़ा का साहित्यिक नाम ‘रश्मि’ है। दिल्ली में ही निवासरत रश्मि की जन्म तारीख ६ दिसम्बर १९७८ है। लेखिका और गायिका रश्मि को दिल्ली में संगीत कार्यक्रम में गायिकी के लिए सम्मान प्राप्त हुआ है। आपकी रचनाएं दैनिक अखबारों-पत्रिका में प्रकाशित होती रहती हैं। आपको दिल्ली के कवि सम्मेलन तथा नोएडा से बज़्म-ए-हिंद संग्रह से भी सम्मानित किया गया है।

Leave a Reply