yadu

Showing 10 of 12 Results

हिन्दी

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* मैं हिन्द देश की हिन्दी हूँ, मैं भारत भाल की बिंदी हूँ। मैं तुलसी दास की रामायण, मैं वेद-पुराण,गीता गायन मैं गीत,ग़ज़ल,रूबाई हूँ, मैं दोहा,छंद,रोला,चौपाई […]

इकरार

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* हाथों में हाथ लेकर इकरार करती हूँ, हाँ सजन,मैं तुमसे प्यार,प्यार करती हूँ। मेरे जीवन बगिया के तुम ही तो माली, सिंदूर तुम हो माँग […]

हे त्रिपुरारी

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* हे गौरी पतये महादेव त्रिनेत्रधारी देवन के देव जग पालनकर्ता। हे शंभू कैलाश विराजत गौरा माँ संग हे अमर नाथ हे त्रिलोकी नरेश। हे देव […]

शर्म करो

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* राम-रहीम की धरती पर यूँ न अधर्म करो, बहन-बेटियों को मत नोंचो,कुछ तो शर्म करो। वह भी किसी की बेटी है, जिस कोख से तूने […]

बात-बात पे आँख दिखाता है…

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* (रचनाशिल्प:मात्रा भार २४) कल पिलाया दूध उन्हें आँख दिखाता है। उँगली पकड़ चलाया राह तू बताता हैl जिगर का टुकड़ा था कल तक तू माँ-बाप […]

दीवार

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* आँगन में दीवार देख कर सोच रही माँ खड़ी-खड़ी, रिश्तों में दरार पड़ गयी,आई है ये कैसी घड़ीl बचपन में संग खेला,तूने संग-संग की पढ़ाई, […]

सुहानी शाम

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* शाम सुहानी आ गई,पंछी करते शोर। लौट रहे हैं नीड़ को,बाँध प्रीत की डोरll बैलों की घंटी बजे,जस वृन्दाबन धाम। ग्वालों की टोली लगे,संग श्याम […]

माँ दरश दिखा जाना…

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* नवरात में आकर के माँ दरश दिखा जाना। नवरात चले जाये,माँ तुम न कभी जानाll पलकों से तेरी मैंया मैं डगर बुहारुँगी, गंगाजल से अंबे […]

धर्मपत्नी

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* मैं नारी ही धर्मपत्नी हूँ, मैं प्रियतम की संगिनी हूँ मैं साजन का प्यार हूँ, मैं ही घर-परिवार हूँl मैं सावन की फुहार हूँ, मैं […]

कान्हा तेरा शुक्रिया

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* जिंदगी में श्याम जी ने सब कुछ दिया, तेरा शुक्रिया कान्हा,तेरा शुक्रिया। बचपन में माँ गोद दिया, सर पे पिता का साया भाई-बहन का प्यार […]