विधाता

पवन कुमार ‘पवन’ 
सीतापुर(उत्तर प्रदेश)

******************************************************

करोगे कर्म जैसे फल उसी अनुरूप पाओगे।
परिश्रम के बिना कैसे सुखी जीवन बिताओगे ?

यही हर धर्म कहता है सदा सन्मार्ग पर चलिए।
यही वो नाव जिस पर बैठ के भवपार जाओगे॥

कई प्यासे पथिक दर पर तुम्हारे रोज आएँगे।
नदी बनकर अगर तुम प्यास दूजों की बुझाओगे॥

बिखेरो चाँदनी जग में उजाला चाँद का बनकर।
अँधेरा जब घना होगा सभी को याद आओगे॥

बिताई ज़िन्दगी दो पल हजारों साल से अच्छी।
जिओगे शान से सदियों तलक तुम जगमगाओगे॥
(विधान १२२२×४)

परिचय-पवन कुमार यादव का साहित्यिक उपनाम ‘पवन’ है। आपकी जन्मतिथि २० जुलाई १९९१ और जन्म स्थान-ग्राम गनेरा,जनप-सीतापुर (उत्तर प्रदेश )है। यहीं पर आपका वर्तमान निवास है। उत्तर प्रदेश के श्री यादव ने स्नातक तक शिक्षा हासिल की है। आपका कार्यक्षेत्र कृषि कार्य करना है। साथ ही कविता लेखन भी करते हैं। लेखन विधा-छंद,गीत,मुक्तक तथा ग़ज़ल है। इनकी रचनाओं का प्रकाशन मासिक पत्रिका सहित अंतरजाल और ई-पत्रिका पर भी हुआ है। प्राप्त सम्मान में आपके नाम साहित्य भूषण सम्मान-२०१७,श्रेष्ठ छंदकार सम्मान,साहित्य गौरव सम्मान एवं सवैया साधक आदि दर्ज हैं। पवन कुमार यादव की लेखनी का उद्देश्य राष्ट्रभाषा हिन्दी की प्रगति व राष्ट्र सेवा है।

Hits: 22

आपकी प्रतिक्रिया दें.