Tag: agrawal

19 views

रोटियाँ

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** भूख का श्रृंगार तो होती हैं रोटियाँ, और माँ का प्यार भी होती...

16 views

कौन जीता-कौन हारा

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** विजयादशमी विशेष ........................... जीत-हार की बात नहीं संघर्ष अभी भी जारी है, तब...

11 views

ये अपना पैमाना है

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** किसने समझा किसने जाना,किसने कितना माना, मानवता से क्या होता है,मानव का पैमाना।...

25 views

क्या खोया-क्या पाया

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** अब तक जाने क्या-क्या हमने,निज जीवन में खोया है, नफरत के बीजों को...

24 views

सारतत्व

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** बबुआ ये पर्यावरण,जीवन का पर्यायl  इतना ही बस जानिये,प्रभुवर करें सहायl    आज...

24 views

कुदरत

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ******************************************************************  तपन सूर्य की देखते,भूल गए महताब।  कुदरत के तोहफे सभी, बबुआ हैं नायाब॥ ...

19 views

नेपाल आपदा

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** पत्तों-सा बिखरा नगर,शहर हुए वीरानl  बबुआ भीषण आपदा,गई हजारों जानll    कोटि-कोटि वंदन...

16 views

जल और जंगल

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ******************************************************************‘ जल से जंगल जानिए,जंगल से जल होयl  `बबुआ` दोनों जब रहें,जीवन मंगल होयll ...

23 views

अतिवृष्टि

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ******************************************************************‘ बबुआ बादल के दिखे,ऐसे बुरे मिजाज। ज्यों किसान के खेत में,आँसू बरसे आज॥...

56 views

खुली आँँख के सपने

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ******************************************************************‘  अपनों को अपना कहते हैं पर,सत्य कहो क्या अपने हैं, इतना तो सोच...