Visitors Views 80

इंसान ही रहिए

अजय जैन ‘विकल्प’
इंदौर(मध्यप्रदेश)
******************************************

मत उगलिए जहर, इंसान ही रहिए,
प्रेम से महँगा कुछ नहीं, वही कहिए।

मत भूलिए अपना कोई भी फर्ज़ संसार में,
बदलिए भी, पर बस जमीर जिंदा रखिए।

करो वो-जो सही लगे और हो भी जग में,
वो क्या कहेगा-इसकी फिक्र मत करिए।

छोटी-सी ही तो है यहाँ दुनिया रिश्तों की,
सबसे मिल-जुल कर ही बस मस्त रहिए।

हर जीव-जन्तु से रखो स्नेह का भाव ही,
निभाएं इंसानियत, विषधर मत बनिए॥