कुल पृष्ठ दर्शन : 573

You are currently viewing सहेजो देश

सहेजो देश

अजय जैन ‘विकल्प’
इंदौर(मध्यप्रदेश)
******************************************

हुए शहीद,
चाहा देश आजाद-
किया संघर्ष।

भगत सिंह,
दे कर बलिदान-
पाई आजादी।

देख गुलामी,
डटकर लड़े यूँ-
अर्पित शीश।

हुए अमर,
ना भूलो बलिदान-
करो स्मरण।

वतन प्यारा,
हम ऋणी उनके-
अमन प्यारा।

सहेजो देश,
कीमती है आजादी-
नहीं भूलना।

यह कर्तव्य,
अभिमान आजादी-
खून बहाया।

बनें गंभीर
याद हो राजगुरू-
थाती पुरखे।

सुखदेव की,
याद करो खुद्दारी-
गर्व है हमें।

लाल भारती,
वीरों से जिंदा मान-
सदा आरती।

थे मतवाले,
सोचा नहीं भविष्य-
किया प्रहार।

पाया है शौर्य,
खदेड़ा अंग्रेजों को-
दे ललकार॥

Leave a Reply